रोटरी फाउंडेशन ने पोलियो उन्मूलन अभियान में 10 लाख अमेरिकी डालर के योगदान के लिए उषा मित्त्ल को सम्मानित किया

 लंदन, 6 मई, पीआरन्यूजवायर- एशियानेट ।
 रोटरी फाउंडेशन वैश्विक स्तर पर पोलियो उन्मूलन के रोटरी के प्रयासों में श्रीमती उषा मित्त्ल को उनके हालिया 10 लाख अमेरिकी डालर के योगदान के लिए सम्मानित करेगी । लंदन के हाउस आफ लाड्र्स में आयोजित एक स्वागत समारोह में रोटरी फाउंडेशन के अध्यक्ष जोनाथन बी. माजीयाग्बे फाउंडेशन को एक महत्वपूर्ण बडे दाता के रूप में सम्मानित करेंगे अ©र उन्हें आर्क सी. क्लंफ सोसायटी में शामिल कर लेंगे ।
 विश्व की सबसे बडी स्टील निर्माता कंपनी आर्सेलरमित्त्ल के प्रमुख अ©र एक प्रमुख उद्योगपति लक्ष्मी मित्त्ल की पत्नी उषा मित्त्ल ने पोलियो उन्मूलन की खातिर 20 करोड अमेरिकी डालर जुटाने के रोटरी के ताजा प्रयास के तहत रोटरी फाउंडेशन को 10 लाख अमेरिकी डालर का योगदान किया है । संगठन का ‘एंड पोलियो नाउ’ अभियान बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के 35.50 करोड अमेरिकी डालर के चैलेंज ग्रांट के तहत यह राशि जुटा रहा है ।

 विकासशील देशों में जहां अपंग बनाने वाला यह रोग बच्चों को अभी भी प्रभावित कर रहा है अ©र जिनमें मित्त्ल का स्वदेश भारत भी शामिल है, वहां 55.50 करोड अमेरिकी डालर जुटाने के परिणामस्वरूप पोलियो उन्मूलन की गतिविधियां चलाई जाएंगी । वर्ष 1985 से रोटरी ने पोलियो उन्मूलन अभियान में सहयोग के लिए अब 80 करोड अमेरिकी डालर से ज्यादा की राशि का योगदान किया है । इसके अलावा रोटरी के प्रत्येक सदस्य ने दो अरब से ज्यादा बच्चों के टीकाकरण में मदद के लिए असंख्य घंटों की निःस्वार्थ सेवा के जरिये योगदान किया जिससे लकवा के 50 लाख मामलों अ©र शिशु मृत्यु के 250,000 मामलों को रोका जा सका ।
 श्रीमती मित्त्ल ने कहा, ‘‘पोलियो एक खतरनाक रोग है जो अभी भी भारत, पाकिस्तान, अफगानिस्तान अ©र नाइजीरिया जैसे विश्व की एक बडी आबादी वाले क्षेत्र्ाों में बच्चों को अपंग बना रहा है । ये चारों ऐसे देश हैं जहां यह वायरस अब भी एक महामारी बना हुआ है । यह एक ऐसा रोग है जिसका कोई इलाज नहीं है, लेकिन किसी बच्चे का जीवन वैक्सीन की बूंदें पिलाने अ©र या एक सरल आईपीवी वैक्सीन के जरिये बचाया जा सकता है । मैं उम्मीद करती हूं कि रोटरी फाउंडेशन में मेरा योगदान वैश्विक स्तर पर पोलियो को समाप्त करने के लिए उसकी विशाल चुन©ती का सामना करने में मदद करेगा ।

 साथ ही मुझ्ो यह भी उम्मीद है कि एक दिन हम एक ऐसे विश्व में रहने में सक्षम हो जाएंगे जहां इस खतरनाक रोग से जीवन बर्बाद नहीं हो सकेगा ।’’
   रोटरी फाउंडेशन के अध्यक्ष जोनाथन माजीयाग्बे ने कहा, ‘‘श्रीमती मित्त्ल को वैश्विक स्तर पर पोलियो उन्मूलन में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए सम्मानित करने पर सक्षम होने को लेकर मैं लाभान्वित हूं । उनके समर्पण के जरिये हम फोलियो मुक्त विश्व के एक कदम अ©र करीब पहुंच गए हैं ।’’
       लंदन में आयोजित होने वाले इस स्वागत समारोह में रोटरी के पोलियो उन्मूलन अभियान को समर्थन देने वाली एक अ©र हस्ती राजश्री बिरला भी शामिल होंगी । मई 2008 में बिरला ने पोलियो उन्मूलन पर चर्चा के लिए उषा मित्त्ल के साथ एक बैठक भी आयोजित की है । उषा मित्त्ल ने इस चुन©ती से निपटने में योगदान के लिए 10 लाख अमेरिकी डालर की पेशकश की है । श्रीमती बिरला अ©र श्रीमती मित्त्ल की ओर से दिए गए ये तोहफे पोलियो उन्मूलन कार्यक्रम में ठोस समर्थन प्रदर्शित करते हैं । ये तोहफे पिछले कई वर्षों से यह कार्यक्रम चला रहे इंडियन रोटरी क्लबों, भारत सरकार अ©र भारत की सामान्य जनता तथा सामान्य नागरिकों को स©ंपे गए हैं ।

        पोलियो एक अत्यधिक संक्रमणकारी रोग है जिससे लकवा अ©र कभी-कभी म©त का भी शिकार होना पडता है । यह रोग अफ्रीका तथा दक्षिण एशिया के कुछ हिस्सों में अभी भी बच्चों को प्रभावित करता है । चूंकि इसका कोई इलाज नहीं है लिहाजा सबसे बडी सुरक्षा इससे बचाव है । इसके लिए 60 सेंट से भी कम कीमत पर उपलब्ध टीके की बद©लत किसी बच्चे का जीवन अपंगता से जुडे इस रोग से बचाया जा सकता है । 
      अब तक पोलियो के कई मामले मध्य 1980 के दशक से लेकर वार्षिक स्तर पर 350,000 से घटते गए हैं अ©र पिछले वर्ष तक यह घटकर 2000 से भी कम रह गए हैं ।
      रोटरी ने वर्ष 1985 में अपने मानवीय सहायता के लक्ष्य में पोलियो उन्मूलन को सर्वोच्च रखा था । रोटरी निजी क्षेत्र्ा से योगदान करने वालों तथा वैश्विक पोलियो उन्मूलन कार्यक्रम की निःस्वार्थ इकाइयों का नेतृत्व करती है । यह कार्यक्रम विश्व स्वास्थ्य संगठन: डब्ल्यूएचओ:, रोटरी इंटरनेशनल, यूएस सेंटर्स फार डिजिज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन एवं यूनिसेफ के नेतृत्व में चलाया गया एक निजी-सार्वजनिक भागीदारी कार्यक्रम है ।
      अब तक दो अरब से भी ज्यादा बच्चों का लकवा से बचाव अ©र कई मामलों में जानलेवा पोलियोवायरस से बचाव के लिए टीकाकरण किया जा चुका है ।

         पिछले दो दशकों के द©रान पोलियो के खिलाफ व्यापक अभियान छेडा गया है जिस वजह से पोलियो के मामलों में तकरीबन 99 प्रतिशत तक की कमी आई है । हालांकि इसके बावजूद पोलियो-प्रसार वाले देशों: भारत, पाकिस्तान, अफगानिस्तान अ©र नाइजीरिया में इससे मुकाबले की चुन©ती अब भी बरकरार है ।
       रोटरी इंटरनेशनल विश्व की सबसे बडी अ©र सर्वाधिक प्रभावशाली निःस्वार्थ सेवा संस्थाओं में से एक है जिसके 200 से ज्यादा देशों अ©र भ©गोलिक क्षेत्र्ाों में 12 लाख सदस्य कार्यरत हैं ।
मीडिया संपर्क:
जूडिथ डीमेंट
44:0ः 7860 162313
जूडिथ एट द डीमेंट्स डाट को डाट यूके
या
1 847 866 3054
ई-मेल: पेटिना डाट डिक्सन एट रोटरी डाट ओआरजी
एचटीटीपी: डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डाट रोटरी डाट ओआरजी
पीआरन्यूजवायर – एशियानेट: रंजन