इरेना का अ©पचारिक दर्जा पाने वाला पहला देश बना यूएई

 अबू धाबी, 19 जून, पीआरन्यूजवायर- एशियानेट ।
 पांच महादेशों के नेताओं ने यूएई द्वारा विश्व की पहली अंतरराष्ट्रीय अक्षय उ?र्जा एजेंसी की पेशकश का समर्थन किया
 संयुक्त अरब अमीरात ने आज अंतरराष्ट्रीय अक्षय उ?र्जा एजेंसी: इरेना: का अ©पचारिक दर्जा पाने की सभी अ©पचारिकताएं पूरी कर ली जिसे अक्षय उ?र्जा के समाधान सभी विकसित तथा विकासशील देशों को देने के लिए 98 सहयोगी सदस्य देशों अ©र विश्व ने बडे पैमाने पर अपना समर्थन अ©र प्रतिबद्धता प्रदान की है । यूएई ने इरेना का मुख्यालय अबू धाबी कराने की बोली लगाने संबंधी अपने आधिकारिक दस्तावेज स©ंप दिए हैं । अबू धाबी संयुक्त अरब अमीरात का राजधानी शहर है ।
 यह अ©पचारिक अनुमोदन प्रक्रिया यूएई के राष्ट्रपति एचएच शेख खलीफा बिन जायेद अल नहान की कानूनी: मई 2009 का संघीय कानून: कार्यवाही से पूरा किया गया अ©र अनुमोदन संबंधी दस्तावेज आज बर्लिन स्थित जर्मनी विदेश मंत्र्ाालय में जमा कराया गया ।

 यह दस्तावेज बर्लिन में यूएई के राजदूत एचई मोहम्मद अहमद अल महमूद ने जमा किया अ©र इसके साथ ही यूएई पहला ऐसा देश बन गया जिसे इरेना का अ©पचारिक दर्जा प्राप्त हो गया ।
 यूएई के विदेश मंत्र्ाी अब्दुल्ला बिन जायेद अल नाहयान ने कहा, ‘‘इरेना पर किए गए अपने कार्य के लिए विश्व के देशों से हमें मिला समर्थन अ©र खासकर अबू धाबी के मसडार सिटी में इरेना का मुख्यालय स्थापित कराने की हमारी पेशकश वाकई एक बडी बात है । यूरोप से लेकर लैटिन अमेरिका तक, एशिया से लेकर अफ्रीका तक के देशों ने यूएई को इरेना का स्थायी मुख्यालय के रूप में सेवा देने के लिए अपना समर्थन देने का वादा किया है ताकि हर किसी के लिए अक्षय उ?र्जा तक पहुंच बनाने, सुलभ अ©र सामथ्र्यवान बनाने के साझ्ाा लक्ष्य को आगे बढाया जा सके । अनेक देशों का मानना है कि इस क्षेत्र्ा में एक अंतरराष्ट्रीय एजेंसी को स्थानांतरित करने का वक्त आ गया है, एक ऐसे देश में जो विकसित अ©र विकासशील देशों के बीच सेतु का निर्माण करता है अ©र एक ऐसा देश जो अक्षय उ?र्जा तथा जलवायु परिवर्तन के मकसद से तहेदिल से अपनी प्रतिबद्धता की पेशकश करता है ।’’
     इरेना की मेजबानी के लिए यूएई की बोली के रूप में अबू धाबी फंड फार डेवलपमेंट ने एक अभूतपूर्व पेशकश की है ।

            इसकी यह पेशकश इरेना को 5 करोड डालर के सालाना एक विशेष एंडोड कोष का निर्माण करते हुए वास्तविक अ©र स्पष्ट तरीके से विकासशील देशों में कार्यरत रहने में मदद करना है । यह राशि विकासशील देशों में कम लागत अ©र न्यूनतम रखरखाव तकनीक वाली इरेना की अनुमोदित अक्षय उ?र्जा विकास परियोजनाओं के लिए ही सिर्फ होगी जिससे उन देशों की जरूरतें पूरी की जा सके ।
       अब्दुल्ला बिन जायेद अल नाहयान ने कहा, ‘‘यूएई अक्षय उ?र्जा के भविष्य में विकासशील देशों की एक सक्रिय अ©र गतिशील संलग्नता की सुविधा प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है । हम समझ्ाते हैं कि हम वह भूमिका निभाने अ©र वैसी प्रतिबद्धता को मूर्त रूप देने के लिए विशेष स्थिति बना चुके हैं । एक अक्षय उ?र्जा भविष्य की दिशा में अपने विश्व को ले जाने के लिए नेतृत्व के अलावा अ©र कुछ करने तथा चंद देशों की भागीदारी की जरूरत पडेगी । विकासशील तथा विकसित देशों को एक साथ लाने अ©र इरेना के उद्ददेश्य को जीवन में लाने के लिए यूएई की एक अनूठी भ©गोलिक, राजनीतिक अ©र आर्थिक स्थिति है ।’’
       अबू धाबी के मसडार सिटी में इरेना का मुख्यालय होने से इरेना अक्षय उ?र्जा क्षेत्र्ा का एक नवोन्मेष नया वैश्विक केंद्र बन जाएगा ।

          मसडार सिटी विश्व का पहला तटस्थ, जीरो-वेस्ट शहर है जिसे पूर्ण रूप से अक्षय उ?र्जा से संचालित किया जाता है । इरेना का मुख्यालय बनने का कार्य पूरा हो जाने के बाद मसडार सिटी 1,500 से ज्यादा कंपनियों का ठिकाना हो जाएगा जिनमें जनरल इलेक्ट्रिक का नया इकोमैजिनेशन सेंटर भी शामिल होगा जो अक्षय नवीनता का एक विश्व स्तरीय तकनीकी समूह का निर्माण करती है ।
        यूएई ने इरेना के लिए उल्लेखनीय संसाधन उपलब्ध कराने की प्रतिबद्धता जताई है: स्थायित्व के संदर्भ में, यूएई आफिस स्थल से संबंधित सभी परिचालन लागत का वहन करेगा । कांफ्रेंस सुविधाओं तथा संबंधित सेवाओं के लिए यह प्रचुर मुद्रास्फीति समायोजन भत्त प्रदान करेगा तथा सभी आव्रजन शुल्कों का ख्याल रखेगा । इसी प्रकार समझ्ा©ते पर हस्ताक्षर करने वाले सभी पक्षों का वार्षिक योगदान वहीं खर्च किया जाएगा जहां इसकी सबसे ज्यादा जरूरत होगी: एजेंसी में कर्मचारियों का खर्च अ©र इसके कार्यक्रमों के लिए वित्त्ीय राशि प्रदान की जाएगी ।
      इरेना को इसके पहले दिन के परिचालन से ही अपने उद्ददेश्य पर केंद्रित करने देने के लिए यूएई इस एजेंसी की सभी व्यवस्था पूरी करने तथा शुरुआती खर्च का वहन करते हुए अपना समर्थन देगा ।      

          इन खर्चों में इरेना की पसंद के मुताबिक फर्नीचर, अत्याधुनिक आईसीटी अधोसंरचना अ©र समर्थन, ई-लर्निंग प्लेटफार्म, इरेना की वित्त्ीय राशि के शोध, आपरेशनल सेवाओं अ©र इरेना के कर्मचारियों के लिए आवास तथा स्थानांतरण के खर्च भी शामिल हैं । यूएई इरेना को कुल 13.60 करोड डालर से ज्यादा की राशि व्यवस्थित कराने के लिए प्रतिबद्ध है जिसमें 7 लाख डालर की राशि नगद दी जाएगी ।
        इरेना का आंतरिक अ©र स्थायी मुख्यालय स्थापित करने का फैसला 29 जून 2009 को मिस्र के शर्म अल शेख में होने वाली इरेना की बैठक में किया जाएगा जहां उपस्थित सदस्य देश इसके लिए अपना मत डालेंगे ।
     यूएई की बोली अ©र प्रतिबद्धताओं के बारे में विशेष जानकारी के लिए इसकी वेबसाइट देखें डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डाट इरेनाएयूएई डाट काम       
     संपादकों के ध्यानार्थ:        
 मसडार सिटी के बारे में                
मसडार सिटी आज के विश्व में सर्वाधिक महत्वाकांक्षी अ©र स्थायी विकास करने वाला शहर है – यह विश्व का पहला ऐसा कार्बन न्यूट्रल, जीरो वेस्ट शहर होगा जिसे संपूर्ण रूप से अक्षय उ?र्जा स्रोतों से रोशन किया जाएगा । मसडार सिटी अबू धाबी का मसडार इनिशिएटिव का हिस्सा है ।          

         मसडार इनिशिएटिव टिकाउ? डिजाइन के साथ साथ अक्षय अ©र स्थायी उ?र्जा क्षेत्र्ा में नवीनतम तकनीकों के विकास तथा व्यावसायीकरण का एक बहुआयामी निवेश है ।
     अंतरराष्ट्रीय अक्षय उ?र्जा एजेंसी: इरेना: के बारे में
इरेना की स्थापना जनवरी 2009 में की गई थी अ©र इसमें विकासशील तथा विकसित दोनों तरह के 98 सदस्य देश शामिल हैं । इरेना का लक्ष्य वैश्विक पैमाने पर अक्षय उ?र्जा का व्यापक तथा स्थायी इस्तेमाल करने की दिशा में तीव्र परिवर्तन को प्रोत्साहित करने के लिए मुख्य संचालन ताकत बनना है । अक्षय उ?र्जा के लिए वैश्विक आवाज बुलंद करने के त©र पर काम करने वाली इरेना अ©द्योगिकीकृत तथ विकासशील देशों दोनों के लिए व्यावहारिक सुझ्ााव अ©र समर्थन प्रदान करेगी, उन्हें नियामक रूपरेखा में सुधार लाने अ©र क्षमता निर्माण के लिए मदद करेगी । यह एजेंसी अक्षय उ?र्जा, बेहतरीन कार्यों, प्रभावी वित्त्ीय प्रबंधन अ©र अत्याधुनिक तकनीकी विशेषज्ञता की संभावनाओं पर विश्वसनीय डाटा सहित सभी संबंधित सूचनाएं हासिल करने की सुविधा प्रदान करेगी ।
  स्रोत: संयुक्त अरब अमीरात सरकार
संपर्क: संयुक्त अरब अमीरात सरकार के लाना नुसेबेह
971 507423230,
एलनुसेबेह एट इरेनायूएई डाट काम
पीआरन्यूजवायर- एशियानेट: रंजन