केलेट इंटरप्राइजेज, इंक. ने पहले भारतीय एजेंट को अनुबंधित किया

 महाराष्ट्र, 2 जुलाई, पीआरन्यूजवायर- एशियानेट ।
 वायबे्रशन आइसोलेशन उत्पादों में वैश्विक अग्रणी कंपनी भारत के रूप में अपनी म©जूदगी का विस्तार कर रही है अ©र बडी आबादी वाली उच्च गुणवत्तपूर्ण तथा कई सारी विश्व स्तरीय कंपनियों की राजधानी में अपना ठिकाना बना रही है जहां उद्यमशीलता की भावना देखी जा रही है ।
 अमेरिका में दक्षिण कैलिफोर्निया स्थित ग्रीनविले में म©जूद केलेट इंटरप्राइजेज, इंक. ने अपने ग्राहकों के बीच एलपी-13 शेक एब्सार्बर: आर: वायब्रेशन पैड के वितरण के लिए पहले भारतीय वितरण एजेंट के त©र पर भारत के महाराष्ट्र में टेक्नो सेल्स को अनुबंधित किया है ।
 एलपी-13 शेक एब्सार्बर: आर: पैड अमेरिका में पेश किया गया पहला तीन स्तरीय शेक एब्सार्बर था । यह सैकडों उद्योगों तथा अनुप्रयोग क्षेत्र्ा में कंपन संबंधी समस्याओं का हल करता है । वर्ष 1960 में स्थापित यह कंपनी आवासीय उपयोग के लिए केई-शेक अवे: टीएम: प्लस पैड्स तथा एलपी-13 लाइट कुशन का भी विनिर्माण करती है ।

  मि. अपूर्व गुजराती के स्वामित्व अ©र संचालन वाली टेक्नो सेल्स उत्कृष्ट गुणवत्त वाले मशीन कल-पुर्जों की आपूर्ति मेटल का काम करने वाले ग्राहकों को करती है । टेक्नो सेल्स द्वारा आपूर्ति किए जाने वाले उत्पादों में मशीन टूल एक्सेसरीज, सीएडी-सीएएम, सीएनसी लेथ, वीएमसी तथा लेथ, रेडियल ड्रिल्स, ग्राइंडिंग मशीन, मिलिंग मशीन, मेटल कटिंग बैंड साव मशीन, सुपर फिनिशिंग मशीन, शीट मेटल मशीन शाट ब्लास्टिंग तथा शाट पीनिंग मशीन जैसी परंपरागत मशीनें शामिल हैं ।
      समय के साथ ही मशीनों के कल-पुर्जे अ©र अन्य भारी उपकरण कंपन करने लगते हैं अ©र इस प्रकार केलेट इंटरप्राइजेज द्वारा बनाए गए वायब्रेशन आइसोलेशन पैड्स के जरिये इसे अच्छी तरह बचाया जा सकता है ।
      केलेट के पैड्स द्वारा रक्षात्मक अ©र ठोस कुशनिंग के बगैर अत्यधिक कंपन उपकरण का जीवन घटा सकता है अ©र इस वजह से त्र्ाुटिपूर्ण रीडिंग संभव है तथा इससे उत्पादन में काफी समय लग सकता है ।
     अपने पहले भारतीय एजेंट के रूप में टेक्नो सेल्स को अनुबंधित करने का फैसला केलेट की उभरते अंतरराष्ट्रीय बाजारों में म©जूदगी बनाने की पहल के तहत किया गया है । यह फैसला उत्त्री अफ्रीका, ब्राजील अ©र पोलैंड तथा अन्य देशों में विस्तार को देखते हुए किया गया है ।

        केलेट इंटरप्राइजेज में मार्केटिंग के उपाध्यक्ष बेवर्ली डेविस ने कहा, ‘‘म©जूदा वैश्विक अर्थव्यवस्था में मंदी के बावजूद भारत के गतिशील विकास को देखते हुए यह हमारे निर्यात लक्ष्यों के लिए बेहद रुचिकर क्षेत्र्ा बन गया है ।’’
       अ©द्योगिक नीति एवं प्रोत्साहन विभाग: डीआईपीपी: द्वारा जारी किए गए हालिया डाट के मुताबिक भारत में अप्रैल 2008 से मार्च तक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश: एफडीआई: तकरीबन 27.3 अरब अमेरिकी डालर का हो चुका है । इसके अलावा सिर्फ पिछले वर्ष 2008-2009 की अंतिम तिमाही में ही एफडीआई तकरीबन 6.2 अरब अमेरिकी डालर का हो चुका है । डेविस ने कहा कि संक्षेप में कहा जाए तो वैश्विक मंदी के बावजूद भारत ने इसकी भरपाई प्रदर्शित की है अ©र अच्छा निवेश हासिल किया है ।
     केलेट इंटरप्राइजेज के बारे में अधिक जानकारी के लिए देखें एचटीटीपी: डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डाट केलेटईएनटी डाट काम
स्रोत: केलेट इंटरप्राइजेज, इंक.
संपर्क: केलेट एजेंट: अपूर्व गुजराती
अपूर्व डाट टेक्नोसेल्स एट रेडिफ डाट काम
91 241 2777259
फैक्स: 91 241 2415039
मोबाइल: 9225322793
पीआरन्यूजवायर- एशियानेट: रंजन