एक मिनट के म©न के जरिये मानवता का विश्व शांति का लक्ष्य

निगमेजेन, 25 अगस्त, पीआरन्यूजवायर- एशियानेट ।
      – इस वैश्विक अभियान में लाखों लोगों को शामिल करने की अपील
 पूरी दुनिया के लाखों लोग, अगर अरबों लोग न जुट पाएं, 14 नवंबर को ठीक 15.00 बजे जीएमटी को विश्व शांति के लिए एक मिनट का म©न रखेंगे । यह लक्ष्य पुर्तगाली संस्था मिनट-आफ-वल्र्ड-पीस का है जिसने विश्व शांति के लिए आज 133 देशों के लोगों का ध्यान आकृष्ट करने का अभियान चलाया है ।
        अधिक से अधिक देशों के अधिक से अधिक लोगों की इसमें भागीदारी के लिए एक श्रृंखला बनाए जाने की जरूरत है । इसका पहला लक्ष्य जागरूकता फैलाना है । अभियान की पहल करने वाले हैन्स ब्रुगमैन ने कहा, ‘‘यदि इस वक्त के द©रान लोगों के विचार आकृष्ट कर लिए जाते हैं तो भविष्य में इसका प्रभाव देखने को मिलेगा ।’’
         इसका दूसरा लक्ष्य विश्व शांति के लिए एक मिनट के समय की वास्तविक रचना करना है ।

         ब्रुगमैन कहते हैं, ‘‘इसकी ताकत सहजता में समाहित है क्योंकि इसमें हिस्सा लेना बेहद आसान है । यदि हर कोई इसके बारे में जान जाएगा तो इस एक मिनट के लिए स्थिर हो जाएगा, यहां तक कि सैनिक भी अपनी अंगुली एक मिनट के लिए ट्रिगर से हटा लेगा । ऐसी स्थिति में पहली बार पृथ्वी की तकरीबन समूची आबादी विश्व शांति के लिए वास्तविक प्रयास करेगा ।’’
      पिछले कुछ दशकों में सभी सशस्त्र्ा विद्रोहों के बावजूद लोग अभी भी विश्व शांति का लक्ष्य रखते हैं । इस बारे में खुलासा एक वेबसाइट एचटीटीपी: डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डाट मिनटआफवल्र्डपीस डाट ओआरजी के 1100 उपभोक्ताओं पर कराए गए एक सर्वेक्षण से किया गया है । इसमें 96 प्रतिशत लोगों ने अपनी शीर्ष दस बडी इच्छाओं में विश्व शांति को भी रखा है ।
     पहली प्रेस विज्ञप्ति 133 देशों के 250,000 पत्र्ाकारों अ©र 4,000 समाचार वेबसाइटों पर जारी की गई है । इसके अलावा जिन लोगों तक यह संदेश पहुंचाया गया है, उनसे इस संदेश को अपने परिजनों अ©र दोस्तों के बीच प्रसारित करने के लिए भी कहा गया है । संस्था ने उन राजदूतों से भी अपील की है जो अपने-अपने देशों में इस अभियान के लिए मदद करना अ©र इसे प्रोत्साहन देना चाहते हैं ।

        साथ ही लोगों से भी अपने देशों में शांति के संदेश के साथ शिलाएं रखने जैसे कार्यक्रम आयोजित करने की अपील की गई है । ये सभी प्रयास 14 नवंबर को एकजुट लोगों के लिए शांति के क्षण साबित हो सकते हैं ।
       इस तारीख को चुनने का भी एक मकसद है । यह तारीख बर्लिन की दीवार गिराए जाने के कारण पूरी दुनिया में याद की जाती है । यह संस्था इस अभियान में हिस्सा लेने वाले सभी भागीदारों को आजादी अ©र शांति का अहसास कराने की उम्मीद करती है जिसकी अनुभूति उस वक्त हुई थी ।
      विशेष जानकारी के लिए: एचटीटीपी: डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डाट मिनटआफवल्र्डपीस डाट ओआरजी
स्रोत: मिनट-आफ-वल्र्ड-पीस
पीआरन्यूजवायर-एशियानेट: रंजन