गठिया जैसे मांसपेशियों के रोग के नुकसानों की अनदेखी नहीं कर सकते एशियाई देश।

सिंगापुर, 14 सितंबर। पीआर न्यूजवायर – एशियानेट।
 -मांसपेशिया के सूजन अ©र दर्द युक्त गठिया के मरीजों की शीघ्रतापूर्वक पहचान अ©र चिकित्सा के इंतजामों की तत्काल आवश्यकता ताकि बीमारियों के सामाजिक, आर्थिक अ©र व्यक्तिगत बोझ्ा से राहत मिल सके।
 -एशिया-प्रशांत क्षेत्र्ा में चिकित्सा के इंतजामों का पुनःआकलन करने की आवश्यकता पर जोर देने के लिए नई पहलकदमी का आरंभ।
 एशिया-पेसिफिक लीग आफ एसोसिएशन फार रेयूमैटोलोजी:एपीएलएआरः की ओर से आज एक नई पहलकदमी का आरंभ किया गया जिसका उदेश्य मांसपेशियो में सूजन अ©र दर्द वाले रोग गठिया की शीघ्र पहचान अ©र चिकित्सा की आवश्यकता को रेखांकित किया जा सके।
 समूचे क्षेत्र्ा में इस रोग के मरीजों, समुदायों अ©र सरकारों पर पडने वाले जबरदस्त सामाजिक , आर्थिक अ©र व्यक्तिगत आर्थिक बोझ्ा से छुटकारा पाने के लिहाज से यह पहलकदमी बहुत ही आवश्यक है।
:ःलोगो: एचटीटीपी: डब्लूडब्लूडब्लू . पीआरएनएशिया . काम , एसए , 2009 , 09 , 08 , 20090908110532 . जेपीजीःः
:ःलोगो: एचटीटीपी: डब्लूडब्लूडब्लू . पीआरएनएशिया . काम , एसए , 2009 , 09 , 08 , 20090908483219 . जेपीजीःः
 प्रतिदिन के स्तर पर संचालित इस अभियान को इस महत्वपूर्ण तथ्य को रेखांकित करने के मकसद से विकसित किया गया है कि मांसपेशियों में सूजन अ©र दर्द वाले गठिया का मरीज बिना परीक्षण अ©र चिकित्सा के बगैर जितने दिन गुजारता है, वह अनावश्यक व्यक्तिगत नुकसान उठा रहा है।
 इसके साथ ही समाज अ©र समुदाय को भी बेरोजगारी अ©र कल्याणकारी कार्यो पर होने वाले खर्च के रूप में उल्लेखनीय वित्त्ीय नुकसान का वहन करना पडता है। अस्पतालों में अधिक दिन पडे रहने की वजह से स्वास्थ्यगत देखरेख पर अधिक खर्च करना पडता है।
 एशिया-प्रशांत लीग आफ एसोसिएशन फार रेयूमैटोलाॅजी:एपीएलएआरः के अध्यक्ष डा.हो-यून किम ने कहा कि ‘‘आर्थिक अनिश्चितता अ©र अधिक उम्र के लोगों की अधिक जनसंख्या वाले देश जटिल बीमारियों से ग्रस्त लोगों को अनावश्यक रूप से काम करने वाली आबादी से बाहर नहीं रख सकती अ©र उनपर सरकारी बजट की रकम को अनावश्यक रूप से खर्च नहीं कर सकती। ’’
 ‘‘ऐसी चिकित्सा उपलब्ध है जो इस बीमारी के दबाव को घटाने में बेहद कारगर प्रमाणित हुए हैं, अ©र शीघ्रतापूर्वक परीक्षण तथा चिकित्सा को बडे पैमाने पर अपनाने से इस रोग से होने वाले नुकसानों को उल्लेखनीय रूप से घटाया जा सकता है, सामाजिक अ©र व्यक्तिगत दोनों तरह के नुकसानों को घटाया जा सकता है। ’’
 डा. किम ने कहा कि,‘‘आरंभ में ही कारगर चिकित्सा रोग के प्रसार को न सिर्फ टाल सकती है, मंथर बना सकती है, या पूरीतरह रोक भी सकती है, बल्कि उत्पादनशीलता को सुरक्षित करके नुकसानों को घटा सकती है अ©र शल्य-चिकित्सा, अस्पताल में भर्ती होने अ©र सामाजिक सेवाओं की आवश्यकताओं को कम कर सकती है। ’’
 डा. किम ने आगे कहा कि ‘हम उम्मीद करते हैं कि इस पहलकदमी से आरए की कारगर चिकित्सा शीघ्रतापूर्वक आरंभ करने की आवश्यकता को रेखांकित करने मे सहायता मिलेगी क्योंकि मरीज बगैर चिकित्सा के जितने दिन रहता है, उसके परिणाम उतने गहरे होते जाते हैं। ’’
              रोग का बोझ्ा
      विश्व स्वास्थ्य संगठन ने तीन स्तरों पर आरए के आर्थिक बोझ्ा का आंकलन किया है। प्रत्यक्ष, अप्रत्यक्ष अ©र मनोवैज्ञानिक नुकसान।
     :1ः सरकारों पर पडने वाला प्रत्यक्ष बोझ्ा या नुकसान उल्लेखनीय हो सकता है। उदाहरणस्वरुप, संयुक्त राज्य में एक व्यवस्थित समीक्षा से उजागर हुआ कि आरए से संबंधित चिकित्सा खर्च वार्षिक रूप से अ©सतन 5720 डालर प्रति मरीज होता है जिसमें अस्पताल में भर्ती मरीजों पर होने वाला खर्च सर्वाधिक है।
     :2ः समूचे एशिया-प्रशांत क्षेत्र्ा में चिकित्सा खर्च समान रूप से उ?ंचा है। मसलनः-
      –कोरिया में आरए के अर्थिक बोझ्ा काअ आकलन 624.9 मिलियन किया गया है जो कुल जीएनपी का 0.11 प्रतिशत समतुल्य ठहरता है।:3ः
       -चीन, जापान अ©र ताइवान में आरए प्रत्येक देश की जनसंख्या के 0.3 प्रतिशत लोगों को प्रभावित करता है जो क्रमशः 40 लाख, 3लाख80 हजार अ©र 69हजार ठहरता है।:4,5,6ः
       -आस्ट्रेलिया में आर्थराइटिस की वजह से प्रति वर्ष 24खरब अस्ट्रेलियन डालर का बोझ्ा स्वस्थ्य सेवाओं पर बढे खर्च, काम के समय में कमी, छोटे जीवन अ©र विकलांगता की तरह गुजरे दिनों की वजह से पडता है।:7ः
       -थाईलैंड में आरए की वजह से अ©सत सामाजिक लागत 2682 डालर होने का आंकलन किया गया है, जो मरीज की अ©सत वार्षिक आमदनी का 41.4 प्रतिशत ठहरता है। प्रत्येक मरीज पर पडने वाला प्रत्यक्ष अ©र अप्रत्यक्ष खर्च के बोझ्ा का आंकलन क्रमशः 2135 डालर अ©र 547 डालर किया गया है।:8ः
       -मलेशिया में 25 वर्ष से 50 वर्ष के बीच के उम्र वाले व्यस्कों की आबादी के 0.5 प्रतिशत को आरए प्रभावित करता है।:9ः
      अप्रत्यक्ष खर्च जैसे कार्यक्षमता: बीमारी की वजह से व्यक्तियों, उनके परिवारों, समाज अ©र नियोक्ता के स्तर पर उत्पादनशीलताः में कमी।
      मरणशीलता में बढोतरी अर्थात बीमारी की वजह से असमायिक मृत्यू की घटनाएं अधिक होने से भी उत्पादन में उल्लेखनीय कमी हो जाती है। कुल मिलाकर, आरए से ग्रस्त लोगों की कार्यक्षमता में उल्लेखनीय कमी हो जाती है, उनमें निकम्मेपन की स्थित सामान्य लोगों से कहीं अधिक होती है।
      शोध बताते हैं कि आरए से ग्रस्त लोगों में दो तिहाई प्रति वर्ष अ©सतन 39 कार्य दिवसों का नुकसान करते हैं।:10ः इसके अलावा एक अन्य शोध यह प्रदर्शित करता है कि लगभग एक च©थाई मरीजों की आमदनी में कमी हो जाती है।:11ः
      केवल आरए के लक्षणों की ही चिकित्सा करने पर व्यक्ति के जीवनकाल में करीब 10 वर्षों की कमी हो जाती है।:12ः उपयुक्त चिकित्सा के अभाव में आरए से ग्रस्त लोगों को जीवनभर ऐसे रोग से लडना पडता है जिसका परिणाम जोडों में गंभीर नुकसान अ©र विकलांगता के रुप में दिखता है।
       रोग-सुधारक गठिया रोधक अ©षधः डीजिज मोडिफाइंग एंटीरेयूमेटिक ड्रग्स-डीएमएआरडीःःवर्तमान में आरए की चिकित्सा के लिए पहली कतार के नुख्से हैं।
       डीएमएआरडी अ©षधियों से जिन आरए मरीजों की चिकित्सा होती है, उनको रोग की सक्रियाता दब जाने का अनुभव होता है अ©र जोडों की क्षति भी कम होती है।
       हांलाकि निगलने वाले डीएमएआरडी अ©षधियों जैसे-मेथोट्रेक्सोट धीरे-धीरे जोडों की स्थिति में गिरावट को पूरीतरह रोक पाने में समर्थ नहीं हो पाते। जीववैज्ञानिक एजेंटों के विकसित हो जाने से अब छुटकाराः रोग की सक्रियता को जोडों में बगैर अधिक नुकसान उठाए पूरी तरह दबा देनाः अधिक संख्यक मरीजों के लिए  वास्तविक चिकित्सकीय निदान बन गया है।
       इन एजेंटों से रोग की सक्रियता को प्रत्यक्ष रूप से अ©र कारगर ढंग से दबा देना संभव हो सकता है। जोडों के रोडियोलाजिक नुकसानों को रोकना या मंथर कर देना संभव हो सकता है अ©र जीवन की गुणवत्त में अधिक नुकसान को रोका जा सकता है।:13ः
               संपादकों के लिए टिप्पणीः-
          प्रतिदिन गणना आधारित अभियान के बारे में:-
       प्रतिदिन गणना-एपीएलएआर की ओर से संचालित एक नई पहलकदमी है।
        इसका लक्ष्य मांसपेशियों में सूजन अ©र दर्द से युक्त गठिया के मरीजों की शीघ्रतापूर्वक परीक्षण अ©र चिकित्सा की आवश्यकता के बारे में जागरुकता फैलाई जा सके। समूचे एशिया-प्रशंात क्षेत्र्ा के चिकित्सकों , मरीजों अ©र सरकारों के पास पहुंचने के लिए विभिन्न गतिविधियों पूरे वर्ष चलाई जाती रहेगी।
                  एपीएलआर के बारे में:-
        एपीएलआर के मिशन अ©र उदेश्य गठिया अ©र अन्य मांसपेशियों की बीमारियों से ग्रस्त रोगियों को बेहतरीन देखभाल प्रदान करना है जिसके लिए यह अपने सदस्यों के निरंतर पेशेगत विकास, अधिक जागरुकता अ©र मांसपेशियों के रोगों की समझ्ादारी बढाने, मरीजों के पक्ष में तर्कपूर्ण विचार विमर्श करने अ©र उनके सशक्तिकरण का रास्ता अपनाता है अ©र मांसपेशियों में सूजन अ©र दर्द की बीमारियों के क्षेत्र्ा में शोधकार्यों को प्रोत्साहित करता है।
        एपीएलएआरा की स्थापना 1963 में सिडनी में हुई अ©र यह आईएलएआर: इंटरनेशनल लीग आफ एसोसिएशन फार रेयूमेटोलाॅजीःः से संबध्द है।
               इस अभियान के लिए समर्थनः-
       इन गतिविधियों को व्येन का ग©रवशली समर्थन प्रापत है।
        स्रोत-संदर्भः-
   1. विश्व स्वास्थ्य संगठन:2003ः नई सहस्राब्दी के आरंभ में मांसपेशियों की बीमारियों का बोझ्ा।:डब्लूएचओ तकनीकी रिपोर्ट श्रृंखला, 919ः
   2. कूपर एन. जे.:2000ः मांसपेशियों में सूजन अ©र दर्द समेत गठिया का आर्थिक बोझ्ा: एक व्यवस्थित समीक्षा। रेयूमेटोलाजी, 39, 28-33.
   3. यून एसजे, बी एससी, ली एसआई, चांग एचजे, जो एचएस, सुंग जेएच, पर्क जेएच, ली जेवाई व शीन आवई एस:2007ः कोरिया में बीमारी के बोझ्ा का आंकलन: कोरिया चिकित्सा विज्ञान अकादमी, 22 , 518 – 23.
   4. चीन में रेयूमेटोइड अर्थाराइटिस की चिकित्सा की व्यवस्था: मेडिकल न्यूज टूडे: 10 अप्रैल 2009ः
   5. शिचिकावा के, ताकेनाका वाई, माइदा ए:1981ः ए लाँगिक्ष्यूडिनल पापुलेशन सर्वे आफ आरए इन ए रुररल डिस्ट्रिक्ट इन वाकायामाद्व रायुमाची, 21, 35-43.
   6. रियूमेटायड अर्थिराइटिस थेरापियूटिक्स इन ताइवान. बायो-मेडिसिन न्यूज,ः10 अप्रैल 2009ः
    7. एक्सेस इकोनाॅमिक्स पीआरवाई लिमिटेड:2007ः दर्दनाक हकीकतःआस्ट्रेलिया में 2007 में अर्थराइटिस का आर्थिक प्रभाव:ःअर्थराइटिस आस्ट्रलियाःः
    8. ओसिरी एम , माएत्जेल ए, तुगवेल पी. विकासशील देशों में मांसपेशी दर्द वाले गठिया रोग का आर्थिक दबावः थाइलैंड में एक वर्ष के संभावित प्रभावों के अध्ययन का निष्र्कष। जे. आफ रेयूमेटोलाजी जनवरी, 34, 57-63.
   9. रेयूमेटायड अर्थराइटिस थेरापियूटिक्स इन मलेशिया: बायो-मेडिसिन न्यूज,:31 मार्च 2009ः
   10. वायन बी. मोरीसन ए. मैक्लीन आर एंड रुडरमैन ई:2006ः मांसपेशियों में सूजन अ©र दर्द वाले गठिया की वजह से उत्पादनशीलता में नुकसान के अध्ययनों की व्यवस्थित समीक्षा, आकुपेशनल मेडिसिन, 56 , 18-27.
   11. अल्बेर्स जे.एम.सी., कुपेर एच.एच,, वान रिएल पी.एल.सी.एम, प्रेवू एम.एल.एल., वान’टी हाफ  एम.ए., वान जीस्टेल ए.एम. एंड सेवेरेन्स जे.एल:1999ः मांसपेशियों के सूजन अ©र दर्द के साथ गठिया रोग का बीमारी के पहले वर्ष में सामाजिक आर्थिक प्रभाव. रियूमेटोलोजी, 38, 423-430.
     12. वीवर ए.एल.:2004ः मांसपेशियो में सूजन अ©र दर्द के साथ गठिया की चिकित्सा में नव जीववैज्ञानिकों का प्रभाव। रियूमेटोलाजी, 43, 17-23.
     13.फिन्क ए. एंड रुबर्ट -रोथ ए.:2009ः मांसपेशियों के सूजन अ©र दर्द के पीडित मरीजों की चिकित्सा के विकल्प जो आरंभ में टीएनएफ इंहेलर चिकित्सा से वंचित हो जाते हैंः एक आलोचनात्मक समीक्षा. गठिया शोध अ©र चिकित्सा, 11ःसंपूरक 1ः:एस1
     अधिक जानकारी के लिए कृपया संपर्क करेंः-
     मिकाइया एफ. टान
     ओगिल्वी हेल्थ, सिंगापुर
     कार्यालयः- 65 – 6213 – 7846
     मोबाइलः- 65 – 8123 – 3928
     ईमेल:- मिकाइया . टान:एैटः ओगिल्वी . काम
     स्रोतः-
     एशिया-पेसिफिक लीग आफ एसोसिएशन फार रेयुमेटोलाॅजी
एशियानेट: अमरनाथ