विश्व कैंसर दिवस- 4 फरवरी 2010 को संक्रमण और कैंसर के बीच संबंधों पर फोकस किया जाएगा

 

जिनेवा, 28 जनवरी, पीआरन्यूजवायरएशियानेट
यूआईसीसी ने वैश्विक स्तर पर कैंसर की समस्या में संक्रमण के योगदान को लेकर सर्वाधिक जागरूकता की अपील की इंटरनेशनल यूनियन एगेंस्ट कैंसर : यूआईसीसी : द्वारा 4 फरवरी को मनाए जाने वाले वर्ल्ड कैंसर डे के लिए आज एक नए अभियान की थीमकैंसर की भी रोकथाम संभव है’ लांच की जा रही है इस अभियान को एक नई वैज्ञानिक रिपोर्ट द्वारा समर्थित किया गया है : ‘संक्रमण की वजह से उत्पन्न कैंसर से बचाव’ जिसमें नौ ऐसे संक्रमणों पर फोकस किया गया है जिससे कैंसर पनपता है
मल्टीमीडिया न्यूज रिलीज देखने के लिए कृपया क्लिक करें : एचटीटीपी : मल्टीवीयू डाट पीआरन्यूजवायर डाट काम, एमएनआर, पीआरएनई, यूआईसीसी, 40774

यूआईसीसी के अध्यक्ष प्रोफेसर डेविड हिल ने कहा, ‘‘प्रत्येक वर्ष 1.2 लाख लोग कैंसर का इलाज कराते हैं जिनमें से 20 प्रतिशत लोगों में वायरल और बैक्टीरियल संक्रमण पनप सकता है जिससे या तो प्रत्येक रूप से कैंसर का खतरा रहता है या कैंसर के खतरे में बढ़ोतरी होती है इसी वजह से 100 से ज्यादा देशों में मौजूद 300 से अधिक सदस्यों का संगठन यूआईसीसी इस वर्ष के विश्व कैंसर दिवस पर वैश्विक स्तर की कैंसर की समस्या में संक्रमण के योगदान के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए अभियान चलाने पर केंद्रित रहेगा ।’’ वायरल या बैक्टीरियल संक्रमणों के कारण पनपे कैंसर को वैक्सीनेशन और जीवनशैली में बदलाव, सुरक्षित बर्ताव और अन्य संयमी उपायों को अपनाने जैसी रणनीतियों के जरिये रोका जा सकता है इन सभी उपायों को वैश्विक स्तर पर अपनाया जा सकता है
इस दिशा में किए गए आश्चर्यजनक विकास ने हाल ही में एक दूसरे टीके के साथ सफलता हासिल की है जो अब उपलब्ध है और कैंसर की रोकथाम में कारगर है
यह एचपीवी टीका मानव पैपिलोमावायरस से रक्षा करता है यह वायरस सर्वाइकल कैंसर का कारण बनता है जो महिलाओं में कैंसर से मौत की तीसरी सबसे बड़ी वजह मानी जाती है सबसे पहला टीका हेपेटाइटिस बी वायरस से रक्षा करता है जिस वजह से लीवर कैंसर का खतरा रहता है और लीवर कैंसर पुरुषों में मौत की तीसरी सबसे बड़ी वजह मानी जाती है
बचाव के इन उपायों की मौजूदगी के बावजूद संक्रमण से कैंसर जनित घटनाओं की दरें निम्न और उच्च आय वाले देशों के बीच एक बड़े अंतर के साथ वजूद रखती हैं : 26 प्रतिशत बनाम 8 प्रतिशत : जहां बचावकारी कार्यक्रम तथा उपचार तथा देखभाल के उपाय भी अपनाए जाते हैं मसलन वैश्विक स्तर पर सर्वाइकल कैंसर की वजह से होने वाली 80 फीसदी मौतें विकासशील देशों में ही होती हैं और जहां किफायती तकनीक उपलब्ध भी है, वहां इस रोग के प्रति जागरूकता तथा सार्वजनिक स्वास्थ्य अधोसंरचना सीमित रहने के कारण व्यापक चुनौतियां बरकरार हैं जो वैश्विक स्तर पर हेपेटाइटिस बी वैक्सीनेशन कार्यक्रमों की कवरेज में महत्वपूर्ण भेदभाव को दर्शाता है
यूआईसीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी कैरी एडम्स ने कहा, ‘‘कुछ संक्रमणों की वजह से कैंसर कैसे पनपता है, इस बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए की गई बचावकारी अपील में काफी संभावनाएं हैं. दुनिया के नीति निर्माताओं के पास लोगों का जीवन बचाने और जीवनशैली का चुनाव करने तथा संयमी उपायों के बारे में उन्हें शिक्षित करने के लिए इन टीकों का इस्तेमाल करने का अवसर है और यह उनका दायित्व भी है जिससे कैंसर के खतरे को कम किया जा सके
कैंसर पैदा करने वाले संक्रमणों की रोकथाम ‘‘कैंसर कैन बी प्रीवेंटेड टू’’ अभियान के तहत चर्चा किए जाने वाले विषयों में से एक है इस अभियान का लक्ष्य इस सच्चाई के प्रति जागरूकता बढ़ाना है कि जीवनशैली में सरल बदलाव और टीकाकरण, नियमित शारीरिक गतिविधियों, स्वस्थ भोजन, अल्कोहल पदार्थ के सेवन में कमी, धूप में कम निकलना तथा तंबाकू का नहीं करने जैसे अन्य संयमी उपायों के जरिये कैंसर को 40 प्रतिशत तक संभावित रूप से कम किया जा सकता है
डब्ल्यूएचओ के सहायक महानिदेशक डा. अला अल्वन ने कहा, ‘‘जोखिम वाले प्रमुख तत्वों पर केंद्रित रहने वाले समग्र एवं समन्वित राष्ट्रीय कार्यक्रमों की जरूरत कैंसर की संभावना रोकने के लिए पूर्ण रूप से महसूस की गई है ।’’ वैश्विक स्तर पर इस अभियान को जीवनशैली में इस तरह के छह प्रमुख बदलावों और संयमी उपायों पर केंद्रित रहने वाले प्रेरणादायी डिजिटल अभियान से समर्थित किया गया है
वर्ल्ड कैंसर कैंपेन रिपोर्ट 2010 ‘‘प्रोटेक्शन एगेंस्ट कैंसरकाउजिंग इंफेक्शंस’’ सहित मीडिया सामग्री के लिए देखें एचटीटीपी : डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डाट वर्ल्डकैंसरकैंपेन डाट ओआरजी प्रेस संपर्क : सोफी लेयर्ड, कोह्न एंड वोल्फ पब्लिक रिलेशंस टेलीफोन : 41 22 908 4073 – सोफी डाट लेयर्ड एट कोह्नवोल्फ डाट काम मीडिया सामग्री के लिए कृपया देखें : एचटीटीपी : डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डाट वर्ल्डकैंसरकैंपेन डाट ओआरजी स्रोत : इंटरनेशनल यूनियन एगेंस्ट कैंसर : यूआईसीसी : पीआरन्यूजवायरएशियानेट : रंजन रंजन पीडब्ल्यूआर5 01271357 दि