पाकिस्तानी माइनोरिटीज ने पाकिस्तानी दूतावास के समक्ष प्रतीकात्मक प्रार्थना प्रदर्शन का आयोजन किया

 
 
28/08/2010 2:35:25:877PM
 
पाकिस्तानी माइनोरिटीज ने पाकिस्तानी दूतावास के समक्ष प्रतीकात्मक प्रार्थना प्रदर्शन का आयोजन किया
 ब्रुसेल्स, 28 अगस्त, पीआरन्यूजवायरएशियानेट
यूरोपियन आर्गेनाइजेशन फार पाकिस्तानी माइनोरिटीज : ईओपीएम: ने आज पाकिस्तान के उन अल्पसंख्यक निर्दोष लोगों को याद करते हुए और उनके लिए प्रार्थना करते हुए बेल्जियम स्थित पाकिस्तानी दूतावास के समक्ष शांतिपूर्ण प्रार्थना से विरोध प्रदर्शन आयोजित किया जिन्हें उनके मौलिक मानवाधिकारों से वंचित कर दिया गया है इस प्रदर्शन में पाकिस्तान के अल्पसंख्यकों को लक्ष्य करते हुए कुछ हाल के निर्दोषों पर हुए जुल्म पर प्रकाश डाला गया और ईओपीएम ने लोगों की सुरक्षा, उनकी संपत्ति सुनिश्चित करने और इस्लाम से इतर धर्मों से जुड़े देशभक्त इन पाकिस्तानियों के सम्मान के लिए तत्काल कार्रवाई की मांग की
ईओपीएम के एक प्रतिनिधि ने कहा, ‘‘हमें इस प्रार्थना और शांतिपूर्ण प्रदर्शन के लिए जिस घटना ने मजबूर किया वह क्रूर अपराध की खबरों से जुड़ी है, यह अपराध एक मुस्लिम डाक्टर ने 14 जून 2010 को एक निर्धन क्रिश्चियन युवती पर किया गया डा. जब्बार ने मिस मैगदालीन के साथ बलात्कार के बाद उसे कराची स्थित जिन्ना पोस्ट ग्रैजुएट मेडिकल सेंटर की चौथी मंजिल से फेंक दिया इस अस्पताल का नाम पाकिस्तान के संस्थापक और कायदेआजम मोहम्मद अली जिन्ना के नाम पर रखा गया है और यहां काम करने वाले सभी डाक्टर मुस्लिम हैं एक मरीज को देखने आए कुछ लोगों ने मैगदालीन अशरफ को नर्स के यूनिफार्म पहने देखा था जिसे अस्पताल की चौथी मंजिल से फेंका गया ।’’ दो महीने पहले पाकिस्तान के अल्पसंख्यकों के अन्य धार्मिक स्थल अहमदिया समुदाय पर मुस्लिम अतिवादियों ने हमला किया और पाकिस्तान में रह रहे अहमदिया समुदाय के दर्जनों लोगों को मार डाला
पाकिस्तान के राष्ट्रपति से की गई एक लिखित अपील में, जिसकी प्रतियां यूरोपीय संसद, यूरोपीय संघ और यूरोपियन कमीशन में भी भेजी गई, ईओपीएम ने पाकिस्तान सरकार से देश को बचाने के लिए बदलाव की शुरुआत करने की अपील की है ईओपीएम ने पाकिस्तान के राष्ट्रपति से इस पर कार्रवाई करने की मांग की और उम्मीद जताई कि राष्ट्रपति पाकिस्तान के संविधान में बदलाव लाने तथा कुख्यात तानाशाही कानून को दरकिनार करने के लिए साहसिक कदम उठाते हुए इतिहास में एक महान नेता के रूप में उभरेंगे यह खतरनाक कानून प्रत्येक गुमराह पाकिस्तानी मुस्लिम के हाथ का एक सुलभ हथियार बन गया है जिसे वे अल्पसंख्यकों के खिलाफ व्यक्तिगत कृत्यों को अंजाम देने में इस्तेमाल करते हैं और खासकर ईसाई बंधुओं पर इससे जुल्म ढाते हैं
ईओपीएम ने प्रशासन से यह सुनिश्चित करने का आग्रह किया है कि पाकिस्तान के अल्पसंख्यक अपने मौलिक मानवाधिकारों का लाभ उठा सकें और पाकिस्तान में शांति तथा सम्मान के साथ रह सकें
उनकी याचिका और अन्य विस्तृत ब्योरा एचटीटीपी : डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डाट ईओपीएम डाट ओआरजी पर देखा जा सकता है
स्रोत : यूरोपियन आर्गेनाइजेशन फार पाकिस्तानी माइनोरिटीज पीआरन्यूजवायरएशियानेट : रंजन रंजन पीडब्ल्यूआर13 08281420 दि