Warning: include(/home/asiaprn/public_html/wp-content/blogs.dir/11/config.php) [function.include]: failed to open stream: No such file or directory in /home/asiaprn/public_html/wp-settings.php on line 2

Warning: include() [function.include]: Failed opening '/home/asiaprn/public_html/wp-content/blogs.dir/11/config.php' for inclusion (include_path='.:/usr/local/lsws/lsphp5/lib/php') in /home/asiaprn/public_html/wp-settings.php on line 2

Warning: include(/home/asiaprn/public_html/wp-includes/SimplePie/Net/db.php) [function.include]: failed to open stream: No such file or directory in /home/asiaprn/public_html/wp-settings.php on line 4

Warning: include() [function.include]: Failed opening '/home/asiaprn/public_html/wp-includes/SimplePie/Net/db.php' for inclusion (include_path='.:/usr/local/lsws/lsphp5/lib/php') in /home/asiaprn/public_html/wp-settings.php on line 4
आपकी मृत्यु से पहले एक खुशनुमा ताबूत : प्रेस विज्ञप्ति

आपकी मृत्यु से पहले एक खुशनुमा ताबूत

 
 
30/09/2010 1:33:29:997AM
 
आपकी मृत्यु से पहले एक खुशनुमा ताबूत
 सिंगापुर, 28 सितंबर, पीआरन्यूजवायर- एशिया- एशियानेट ।
सिंगापुर में मौत की वर्जनाओं को चुनौती देने वाली कुछ हैप्पी कफीन (http://www.happycoffins.org ): पेश किए गए हैं । आज ऐसे डिजाइनर ताबूत एक नर्सिंग होम की शोभा बढ़ा रहे हैं जहां तीन लोग अंतिम यात्रा से पहले अपनी ख्वाहिश पूरी कर सकते हैं कि मृत्यु के बाद उनका अंतिम संस्कार किस तरह से होना चाहिए ।
(Photo: http://www.prnasia.com/sa/2010/09/24/20100924505419.html )
    (Photo: http://www.prnasia.com/sa/2010/09/24/20100924867609.html )

 किसी तरह के भय के बगैर एलसी चूआ ने कहा, ‘‘मैं अपनी अंतिम यात्रा के बारे में बात करने को लेकर जरा भी नहीं घबराती हूं । अपने ताबूत के डिजाइन को आकार देने के बारे में बात करना मेरे लिए काफी सार्थक है और मैं इसे अपनी मौत से पहले देखना चाहती हूं ।’’ वह मुस्कुराते हुए कहती हैं, मैं एक मैचिंग केबाया :1: के साथ मरना पसंद करती हूं ।’’ मृत्यु की कला एलसी की इच्छा सिंगापुर के परोपकारी सदन लियन फाउंडेशन तथा सेंट जोसफ होम एंड होस्पाइस के बीच चलाए गए एक कार्यक्रम के जरिये पूरी की गई । हैप्पी कफीन परियोजना मौत के खौफ को पलट रही है और भय, खौफ तथा दुख का प्रतीक ताबूत को कला के एक सकारात्मक और जीवन के प्रति वचनबद्धता की अभिव्यक्ति में बदल देती है । एलसी के अलावा दो अन्य लोगों किट्टी फोग तथा मैगडेलिन खू ने भी सिंगापुर की एक कला संरचना संस्था एफएआरएम द्वारा तैयार की गई लेकिन अपनी पसंद के अनुरूप कफन जुटा लिए हैं । इसके अलावा एक बहुमुखी प्रतिभा के कलाकार ने भी अपनी विवेचना के अनुरूप ताबूत पाने की अनुमति हासिल कर ली है ।
हैप्पी कफीन कार्यक्रम इस फाउंडेशन के लाइफ बिफोर डेथ अभियान का हिस्सा है जो चाहता है कि लोग अपनी मृत्यु और मृत्युशैया के बारे में सोचने और बात कर सकें और मृत्यु के बाद उन्हें बेहतर देखभाल के लिए जरूरी आवश्यकता पर प्रकाश डाला जा सके ।
आशा का जीवनदान चक्र लियन फाउंडेशन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ली पोह वाह ने कहा, ‘‘हैप्पी कफीन वाला नाम एक विरोधाभास की तरह हो सकता है । लेकिन यह बेहद अलंकृत नाम है जिसे आप करना चाहते हैं । हम मौत के एक अत्यधिक नकारात्मक प्रतीक ताबूत को परावर्तन और प्रेरणा के लिए एक रचनात्मक कैनवास में बदल रहे हैं और जीवन का सकात्मक जश्न मना रहे हैं ।’’ सेंट जोसफ होम एंड होस्पाइस की एडमिनिस्ट्रेटर सिस्टर गेराल्डाइन ने निराश और विनाश के बजाय कहा, ‘‘ हालांकि मृत्यु और मृत्युशैया के बारे में प्रकट रूप से शुरू की गई यह परियोजना वास्तविक रूप से जीवनदान करने वाली है । इसने हमारे लोगों को उनके जीवन की साझेदारी तथा उनकी अंतिम यात्रा से पहले की इच्छा और उम्मीदों के बारे में बात करने के लिए एक भयमुक्त प्लेटफार्म तैयार किया है ।’’ ली ने कहा, ‘‘मौत के बारे में परंपरागत राय को पलटते हुए हम मनोस्थिति को सामान्य रखने की उम्मीद करते हैं और उस ‘डायलाग’ को जीवंत करना चाहते हैं जिसमें शोक में डूबने की जरूरत नहीं पड़ती है बल्कि यह रोमांच, मनोविनोद तथा अच्छी यादों से परिपूर्ण है ।’’ पूरी दुनिया में हैप्पी कफीन्स (http://www.happycoffins.org )
: मौत किसी उम्र, नस्ल और वंश में कोई भेदभाव नहीं करती । मृत्यु से पहले जीवन के बारे में अधिकतम जागरूकता फैलाने के लिए लियन फाउंडेशन ने आईका की वैश्विक रचनाशील संस्था के कलाकारों को आमंत्रित किया है ताकि सर्वश्रेष्ठ हैप्पी कफीन तैयार किए जा सकें- ये कफन चाहे खुद के लिए हों, या किसी प्रेमिका के लिए या किसी प्रेरणादायी व्यक्ति के लिए । इस अंतरराष्ट्रीय कफन डिजाइन प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए 37 देशों से रिकार्ड 733 प्रविष्टियां प्राप्त हुई हैं । प्रतियोगिता में 75 प्रतिशत से ज्यादा प्रतिभागियों ने अपने निजी कफन के लिए ही डिजाइन पेश किए ।
ली रोमांचित होकर कहते हैं, ‘‘हम डिजाइनर कपड़े और चाकलेट रखते हैं तो हम क्यों न डिजाइनर ताबूत बनाएं जिससे हमारे जीवन, व्यक्तित्व और सपने नायाब तरीके से साकार हो सके । प्रत्येक व्यक्तिगत ताबूत के पीछे व्यक्तिगत जीवनी होती है जो शवयात्रा के दौरान बातचीत करने का एक मर्मस्पर्शी बिंदु होती है ।’’ लियन फाउंडेशन (http://www.lienfoundation.org ) के बारे में
लियन फाउंडेशन सिंगापुर की एक परोपकारी संस्था है जो सुधारवादी मानवप्रेमी के अपने माडल के लिए जानी जाती है । यह संस्था वंचित जमात के लिए शैक्षणिक अवसर, बुजुर्गों की देखभाल तथा जल एवं साफ-सफाई व्यवस्था में पर्यावरण स्थिरता बढ़ाना चाहती है ।
लाइफ बिफोर डेथ (http://www.lifebeforedeath.com ) के बारे में
लाइफ बिफोर डेथ कार्यक्रम मृत्यु के बाद बेहतर देखभाल की वकालत करने के लिए लियन फाउंडेशन का एक हिस्सा है । यह सोशल मीडिया, कला, फिल्मों तथा फोटोग्राफी के जरिये लोगों के बीच अपनी पहुंच बनाती है । इस फाउंडेशन ने जुलाई में जारी अब तक के पहले वैश्विक क्वालिटी आफ डेथ इंडेक्स से भी अनुमति हासिल कर ली है ।
:1: केबाया चीन की महिलाओं के लिए एक परंपरागत पोशाक है ।
स्रोत : लियन फाउंडेशन पीआरन्यूजवायर- एशिया- एशियानेट : रंजन रंजन पीडब्ल्यूआर6 09281346 दि