तेजी से विकसित होते भारतीय बाजार में सामरिक सफलता को साकार करने के लिए गेट गारमेट का स्काईगारमेट में बहुत हित का अभिग्रहण गेटग्रुप का एशिया विकास रणन

तेजी से विकसित होते भारतीय बाजार में सामरिक सफलता को साकार करने के लिए गेट गारमेट का स्काईगारमेट में बहुत हित का अभिग्रहण गेटग्रुप का एशिया विकास रणन
 
16/11/2010 12:15:09:680PM
 
तेजी से विकसित होते भारतीय बाजार में सामरिक सफलता को साकार करने के लिए गेट गारमेट का स्काईगारमेट में बहुत हित का अभिग्रहण गेटग्रुप का एशिया विकास रणनीति में सौदा ‘‘पूर्णतया उपयुक्त’’
ज्यूरिख, 11 नवंबर, 2010, पीआरन्यूजवायर- एशियानेट । गेटग्रुप के सदस्य गेट गारमेट ने भारत में सात बड़े शहरों में उपस्थिति रखने वाले अग्रणी हवाई सेवा खान-पान सेवा प्रबंधकर्ता, स्काईगारमेट में बहुल अभिरुचि प्राप्त करने के लिए आज इंडिया हास्पिटैलिटी कारपोरेशन : आईएचसी : के साथ एक संयुक्त उपक्रम समझौता किया । गेटग्रुप के लिए यह सौदा एशियाई बाजार में एक प्रमुख कदम है और दुनिया की दूसरी सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था में, जहां हाल ही में विमान यातायात लगभग 20 प्रतिशत के औसत से बढ़ रहा है, एक रणनीतिक सफलता है ।
आज यह सौदा पूरा हो गया और किसी अन्य नियामक या अंशधार अनुमोदन के अधीन नहीं है । गेटग्रुप ने स्काईगारमेट में 74 प्रतिशत ब्याज अर्जित किया है और नगदी के संयोजन एवं ऋण की धारणा पर विचार कर रहा है । इसमें स्काईगारमेट की पैतृक कंपनी आईएचसी 26 प्रतिशत ब्याज प्राप्त करेगी । अन्य जानकारियां गोपनीय रहेंगी ।
गेटग्रुप के मुख्य संचालन अधिकारी गाए डुबोइस ने कहा, ‘‘भारत की जीवंत अर्थव्यवस्था और इसके साथ ही सका बढ़ता एयरलाइन उद्योग उत्कृष्ट अवसर प्रदान करते हैं ।’’ ‘‘स्काईगारमेट का अभिग्रहण हमारी विकास की रणनीति एवं उभरते बाजारों में गेटग्रुप की उपस्थिति को उंचा उठाकर, अंशधारक की स्थिति को वृद्धि प्रदान करने के हमारे उद्देश्य के साथ पूर्णतया सही तरीके से आकार लेता है । हमें विश्वास है कि यह अनुवृद्धि हमारी शीर्ष रेखा का विकास करेगी और लाभांश में सुधार लाएगी ।’’ उन्होंने कहा ।
डुबोइस ने आगे कहा, ‘‘गेटग्रुप के लिए भारत एक हरित क्षेत्र विस्तार का सुअवसर है और हमें खुशी है कि इस जीवंत बाजार के साथ मेल बिठाने में हमारी मदद करने में आईएचसी द्वारा स्काईगारमेट में रुचि ली जा रही है ।’’ आईएचसी के प्रबंधकीय निर्देशक एवं मुख्य संचालन अधिकारी रवि देओल ने कहा, ‘‘ दोनों ही कंपनियों के लिए यह लाभ की स्थिति है । इस श्रेणी के नेतृत्व के साथ यह साझेदारी स्काईगारमेट की नेतृत्वशीलता गेट गारमेट के वैश्विक सर्वश्रेष्ठ व्यवहारों के साथ भारतीय बाजार के वैश्विक उत्कृष्ट कार्यपद्धति को संयोजित करेगी । हमें विश्वास है कि यह साझेदारी अंशधारकों के लिए महत्वपूर्ण स्थिति का सृजन करेगी और उपभोक्ताओं को उत्तम सेवा प्रदान करेगी । आईएचसी भारतीय बाजार के लिए वचनबद्ध है और निरंतर उपभोक्ता के लिए सुअवसरों को विकसित करना इसका प्रमुख उद्देश्य होगा ।’’ स्काईगारमेट की क्षमता प्रतिदिन 110,000 से अधिक भोजन तैयार करने की है और भारत के सभी छह बड़े हवाई अड्डों पर खान-पान प्रबंधन करने वाली यह एकमात्र कंपनी है । यह मुंबई, दिल्ली, बंगलुरु, चेन्नई और हैदराबाद में खान-पान प्रबंधन का संचालन करती है और कोलकाता में इसकी नवीन इकाई का निर्माण जारी है । पुणें में स्काईगारमेट द्वारा फ्रेंचाइज व्यवस्था का प्रबंधन किया जाता है ।
भारत की तीन बड़ी घरेलू विमान सेवाओं के साथ स्काईगारमेट के संबंध मजबूत हैं :जेट एयरवेज और इसकी सहायक, जेटलाइट : किंगफिशर एयरलाइंस तथा एनएसीआईएल : एयर इंडिया-इंडियन एयरलाइंस : के लिए आधिकारिक तौर पर उनके हब और अन्य घरेलू स्थलों पर सेवा प्रदान की जा रही है । गेट गारमेट की एक इकाई भारतीय रिजार्ट टाउन, गोवा में पहले से ही मौजूद है जिसका सन 2007 में अभिग्रहण किया गया था ।
बहरहाल स्काईगारमेट मुख्य तौर से घरेलू भारतीय बाजार में सेवारत है, इसके बावजूद गेटगारमेट की अपनी वैश्विक नेटवर्क क्षमता और भारत में अंतरराष्ट्रीय वाहक उड़ानों के साथ लाभ उठाने की महत्वपूर्ण संभावना है । इसके अतिरिक्त गेटगारमेट की आनबोर्ड रिटेलिंग में विशेषज्ञता के चलते घरेलू वाहकों में स्काईगारमेट की विद्यमान बाय-आन-बोर्ड आफरिंग में वृद्धि होने की संभावना है ।
‘‘एशिया को एक विशाल संभावनाओं वाले क्षेत्र के रूप को हमने पहचाना है । भारत में प्रमुख तौर से काम करना प्रारंभ करते हुए हमारी हाल की गतिविधियां हैं, टोक्यो के नरिटा एवं हनेडा हवाई अड्डों पर विस्तार कार्य, जिससे यह जाहिर होता है कि गेटगारमेट इस महत्वपूर्ण क्षेत्र में अपनी विकास रणनीति क्रियान्वित कर रहा है ।’’ डुबोइस ने कहा ।
संयुक्त उपक्रम की देखरेख एक नए सृजित सलाहकार समिति के माध्यम से की जाएगी, जिनमें मुख्य संचालन अधिकारी गाए डुबोइस, वरिष्ठ समूह अध्यक्ष एवं अध्यक्ष एशिया प्रांत, माइक पूले और आईएचसी के प्रमोटर निर्देशक रवि देओल और संदीप व्यास शामिल होंगे ।
स्काईगारमेट की स्थापना सन 2002 में हुई थी । इसमें लगभग 2,600 कर्मचारी कार्यरत हैं । इसकी फ्लाइट किचन की आयु औसतन करीब पांच वर्ष की है और इसमें और अधिक विकास की संभावना है । डुबोइस ने कहा, ‘‘व्यवसाय अच्छा चल रहा है, सशक्त बाजार में स्थिति के अनुसार प्रतिस्पर्धी मूल्य है । हम स्काईगारमेट और इसके कर्मियों का गेटग्रुप कारपोरेट परिवार में स्वागत करते हैं ।’’
गेटग्रुप के बारे में :
गेटग्रुप आनबोर्ड सेवाओं की ऐसी कंपनियों का एक अग्रणी स्वतंत्र वैश्विक प्रदाता है जो लोगों को आगे बढ़ान में सेवारत हैं । गेटग्रुप के पास 11 ब्रांड हैं – डेस्टर, ईगेट साल्यूशन, एलन, गेट एविएशन, गेटगारमेट, गेटसेफ, हार्मनी, परफार्मा, पेट्मस्टूडियो,पोरशिन एवं सप्लेयर ।
ग्रुप की विश्वव्यापी क्षमताएं खानपान एवं आतिथ्य, प्रावधानीकरण एवं रसद- एवं आनबोर्ड समाधानों में केंद्रित हैं । विश्वभर की पेशकश और भौगोलिक क्षेत्रों के लिए गेटग्रुप विशेषज्ञता और समाधान पर भरोसा करते हैं । ज्यूरिख आधारित गेटग्रुप के शेयर गेट के प्रतीक के तहत सिक्स स्विस एक्सचेंज में लगे हुए हैं । कृपया http://www.gategroup.com पर पधारें ।
हास्पिटैलिटी कारपोरेशन के बारे में
 हास्पिटैलिटी कारपोरेशन एक अखिल भारतीय आतिथ्य एवं विश्राम संबंधी कंपनी है । यह कंपनी अपनी भारत आधारित सहायक कंपनियों रेड प्लेनेट रेस्टोरेंट्स प्राइवेट लिमिटेड : पूर्व में मार्स रेस्टोरेंट्स प्राइवेट लिमिटेड : :‘‘रेड प्लेनेट’’ : एवं स्काईगारमेट केटरिंग प्राइवेट लिमिटेड : ‘‘स्काईगारमेट’’ : के माध्यम से एयरलाइन खानपान, होटल और रेस्तरां क्षेत्रों में कार्यरत है । इसका स्टाक ट्रेड ‘‘आईएचसी’’ के प्रतीक के तहत लंदन स्टाक एक्सचेंज अल्टरनेटिव इनवेस्टमेंट मार्केट : एआईएम : में लगा हुआ है । कृपया http://www.indiahospitalitycorp.com पर पधारें ।
कृपया ध्यान रहे कि विश्लेषकों और निवेशकों के सवाल-जवाब सत्र के दौरान मीडिया को सवाल पूछने का अधिकार नहीं होगा ।
इस प्रजेंटेशन के लाइव वेबकास्ट से जुड़ने के लिए कृपया ‘‘इनवेस्टर पैक’’ पर जाकर गेटग्रुप की वेबसाइट एचटीटीपी : डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डाट गेटग्रुप डाट काम के ‘‘इनवेस्टर रिलेशंस’’ सेक्शन के तहत ‘‘इनवेस्टर पैक’’ टैब को क्लिक करें ।
स्रोत : गेट गारमेट संपर्क : मीडिया के लिए गेटग्रुप कारपोरेट कम्युनिकेशंस के जान ब्रानसन, 41 43 812 2048, जेब्रानसन एट गेटग्रुप डाट काम आईएचसी में मुचुअल पीआर के या हर्ष वरदान 91 11 43620700 हर्ष एट मुचुअलपीआर डाट काम, या निवेशकों के लिए गेटग्रुप इनवेस्टर रिलेशंस की लारा क्लेवारी 41 43 812 5496 इनवेस्ट एट गेटग्रुप डाट काम पीआरन्यूजवायर- एशियानेट : रंजन रंजन पीडब्ल्यूआर5 11121520 दि