इंटरनेशनल टाइगर कोअलिशन ने कहा की टाइगर शिखर सम्मेलन बाघों के अवैध शिकार और अवैध व्यापार के संकट को दूर कर सकता है

इंटरनेशनल टाइगर कोअलिशन ने कहा की टाइगर शिखर सम्मेलन बाघों के अवैध शिकार और अवैध व्यापार के संकट को दूर कर सकता है
 
19/11/2010 12:29:52:990PM
 
इंटरनेशनल टाइगर कोअलिशन ने कहा की टाइगर शिखर सम्मेलन बाघों के अवैध शिकार और अवैध व्यापार के संकट को दूर कर सकता है
वाशिंग्टन, 19.नवम्बर 2010:पीआरन्यूजवायर-एशियानेट:- इंटरनेशनल टाईगर कोअलिशन:आईटीसी: ने रूसी प्रधानमंत्री व्लादिमिर पुतिन के दुनियाभर के नेताओं को 21 से 24 नवंबर के बीच पिटर्सबर्ग में अन्तर्राष्ट्रीय बाघ संरक्षण फोरम में बुलाने का स्वागत किया है । इस ऐतिहासिक और अभूतपूर्व घटना की प्रतिक्रिया में, आईटीसी ने टाईगर रेंज स्टेट्स और फोरम में भाग लेने वालों को दिल से समर्थन देने की पेशकश की है जिससे बाघों की आबादी 2022 तक दोगुनी करने के लक्ष्य को प्राप्त किया जा सके ।
वाइल्ड टाइगर्स संकट में है, न सिर्फ इनके रहने योग्य जगह को छोड़कर और इनके जंगली शिकारों की कमी से, बल्कि मुख्य तौर पर काला बाजार में बाघों के अंगों और इनके उत्पादों की उच्च-कीमत पर सप्लाई के लिए के इनके अवैध शिकार से भी ।
यह जानते हुए भी कि बाघों के अंगों, उनके उत्पादों और उनके डेरिवेटिव्स राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अवैध है, फिर भी बाघों को उनके शरीर के अंगों के लिए मारा जा रहा है, जबकि बाघों के अंग और उनके उत्पाद अवैध बाजारों में जंगली और कैद-नस्ल स्रोतों से लगातार आ रहें हैं । इसलिए, आईटीसी ने सेंट पिटर्सबर्ग डेक्लेरेशन और ग्लोबल टाईगर रिकवरी प्रोग्राम में दिये गये वक्तव्यों से काफी उत्साहित है – दोनों के फोरम में अपनाने की उम्मीद जताई जा रही है – जिसका ध्येय टाईगर-संबंधी वन्यजीव अपराध से बचाव करना और बाघों के शारीरिक अंगों और उत्पादों की मांग को खत्म करना है ।
आईटीसी के सभापति जुडी मिल्स ने कहा, ‘‘हम मौजूदा बाघ-व्यापार पर प्रतिबंध लगाने के प्रभाव को और सुदृढ़ करने के लिए तय किये गये लक्ष्य का समर्थन करते हैं, इस ध्येय के साथ कि बाघों के अंगों, उनके उत्पादों और डेरिवेटिव्स के लिए हो रहे व्यापार का सिरे से उन्मूलन करेंगे,’’‘‘यह बाघों की संख्या 2022 तक दोगुनी करने की उपलब्धि के लिए महत्वपूर्ण है ।’’ आईटीसी टाइगर रेंज देशों को उन रणनीतियों का विकास करने और उन्हें कार्यान्वित करने में सहयोग देना सुनिश्चित किया है जो बाघों के अंगों और डेरिवेटिव्स के व्यापार को खत्म करने के लिए आवश्यक है ।
इसके अलावा, आईटीसी दृढ़ता से हाल ही में की गई उन सिफारिशों का भी समर्थन करता है जो अन्य दलों द्वारा कंवेंशन आन इंटरनेशनल ट्रेड इन एंडेंजर्ड स्पिशिस आफ वाइल्ड फ्लोरा एण्ड फोना : सीआईटीइएस: और इंटरपोल आन टाइगर ट्रेड में बनाई गई । जिसमें खुफिया सूचना के आधार पर कानून लागू कराना, कानून प्रवर्तन अधिकारियों के बीच सहयोग बढ़ाना, ग्राहकों के मध्य मांग-कम करने का अभियान चलाना और बंदी-नस्ल स्रोतों से बाघों के अंगों और डेरिवेटिव्स के लिए अवैध व्यापार पर प्रतिबंध लगाना शामिल है ।
पृष्ठभूमि : – इंटरनेशनल टाईगर कोअलिशन 42 गैर-सरकारी संगठनों जो कि पर्यावरण, चिड़ियाघर, पशु कल्याण, पारम्परिक चीनी चिकित्सा, आपराधिक न्याय और जिम्मेदार पर्यटन समुदाय का संघ है, जो सामूहिक रूप से विश्वभर के लाखों व्यक्तिगत सदस्यों का प्रतिनिधित्व करता है ।
– इंटरनेशनल टाइगर फोरम (http://www.tigersummit.ru/)

-सीआईटीईएस के टाईगर निर्णय  (http://www.cites.org/eng/dec/valid15/14_66-68-69_15-70.shtml)
स्रोत:द इंटरनेशनल टाईगर कोअलिशन सम्पर्क : जुडी मिल्स 1-202-674-4588 जुडीमिल्स3 एट जीमेल डाट काम पीआरन्यूजवायर:एशियानेट:किरण अमर पीडब्ल्यूआर1 11190939 दि