एसजीआई के अध्यक्ष को यूनिवर्सिटी आफ मैसाच्यूसेट्स बोस्टन से 300वें एकेडमिक खिताब से सम्मानित किया गया

 42301 एसजीआई
श्रेणी: General
 
एसजीआई के अध्यक्ष को यूनिवर्सिटी आफ मैसाच्यूसेट्स बोस्टन से 300वें एकेडमिक खिताब से सम्मानित किया गया
 
24/11/2010 11:45:40:793PM
 
टोक्यो, 22 नवंबर, क्योदो जेबीएन- एशियानेट ।
सोका गकाई इंटरनेशनल बुद्धिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष और सोका यूनिवर्सिटी के संस्थापक दायसाकु इकेदा को 21 नवंबर को टोक्यो के शिनजुकु वार्ड में आयोजित एक समारोह के दौरान यूनिवर्सिटी आफ मैसाच्यूसेट्स बोस्टन से डाक्टर आफ ह्यूमेन लेटर्स की डिग्री से सम्मानित किया गया ।
यह डाक्टरेट की उपाधि, प्रोफेसरशिप के सम्मान और समतुल्य खिताबों की कुल 300वीं संख्या है जो शांति कायम करने तथा सांस्कृतिक आदान-प्रदान एवं मानवीय शिक्षा को प्रोत्साहित करने के डा. इकेदा के प्रयासों के लिए तकरीबन 50 देशों में मौजूद उच्चतर शिक्षण संस्थानों द्वारा उन्हें दिया गया है ।
यूनिवर्सिटी आफ मैसाच्यूसेट्स बोस्टन के चांसलर डा. जे. कीथ मोटली ने शैक्षणिक मामलों के प्रोवोस्ट तथा वाइस चांसलर डा. विंसटन ई. लैंगली और एसोसिएट प्रोवोस्ट तथा इंटरनेशनल एंड ट्रांसनेशनल अफेयर्स के निदेशक प्रोफेसर यूनसूक ह्यून वाले एक प्रतिनिधिमंडल की अध्यक्षता की जो सोका यूनिवर्सिटी के साथ एक शैक्षणिक विनिमय समझौते पर दस्तखत करने के लिए जापान के दौरे पर जा रहे हैं और इकेदा को डाक्टरेट की उपाधि से सम्मानित करेंगे ।
यूनिवर्सिटी आफ मैसाच्यूसेट्स बोस्टन यूनिवर्सिटी आफ मैसाच्यूसेट्स सिस्टम का एक हिस्सा है । यह एक शोधपरक यूनिवर्सिटी है और इसके साथ 11,000 अंडरग्रैजुएट्स तथा 4,000 ग्रैजुएट्स छात्र जुड़े हुए हैं ।
अपने स्मृति चिन्ह में डा. मोटली ने इकेदा का परिचय इस प्रकार दिया है : ‘‘प्रेरणादायी बौद्ध नेता, शांति निर्माता, लेखक, शिक्षाविद और बेहतर मानवता के लिए संस्थाओं के वैश्विक संस्थापक ।’’ और उन्होंने व्यक्ति के सशक्तीकरण तथा सामाजिक संलग्नता के लिए उनकी वकालत की भरपूर सराहना की ।
इकेदा ने कहा, ‘‘ मैं बेहद सम्मानित हुआ हूं । जो शैक्षणिक सम्मान मैंने स्वीकार किया है, वह पूरी दुनिया में फैले एसजीआई के सदस्यों के लिए दिया गया सम्मान है । यह उनके बहुस्तरीय योगदान का सम्मान है । एक प्राइवेट नागरिक के नाते मैं शांति, सांस्कृतिक आदान-प्रदान तथा शिक्षा को प्रोत्साहन देने का अपना प्रयास दोगुना कर दूंगा ।’’ इकेदा और डा. मोटली इस बात से सहमत हैं कि गंभीर बदलाव और भ्रम के इस खास दौर में भी शिक्षा की भूमिका लोगों को मानवता के कल्याण के लिए समर्पित करने की होनी चाहिए ।
इकेदा ने अपने शैक्षणिक प्रयासों, परमाणु निरस्त्रीकरण तथा सैद्धांतिक लेखन के प्रयासों के सम्मान के तौर पर मास्को स्टेट यूनिवर्सिटी से मई 1975 में डाक्टरेट की अपनी पहली उपाधि हासिल की है । इसके बाद से वह सिंघुआ यूनिवर्सिटी, यूनिवर्सिटी आफ हांगकांग, डेनवर यूनिवर्सिटी, यूनिवर्सिटी आफ ग्लासगोव, यूनिवर्सिटी आफ दिल्ली, यूनिवर्सिटी आफ सिडनी, फेडरल यूनिवर्सिटी आफ रियो दी जनेरो तथा यूनिवर्सिटी आफ घाना सहित कई बड़े संस्थानों से शैक्षणिक सम्मान हासिल करते आ रहे हैं ।
दायसाकु इकेदा : 1928- : वर्ष 1960 से 1979 के दौरान सोका गकाई बुद्धिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष रहे हैं । वर्ष 1975 में वह सोका गकाई इंटरनेशनल : एसजीआई : के संस्थापक अध्यक्ष बने जिसके अब पूरी दुनिया में 1.20 करोड़ सदस्य बन चुके हैं । वह इंस्टीट्यूट आफ ओरियंटल फिलासोफी, द मिन-आन कंसर्ट एसोसिएशन, द टोक्यो फुजी आर्ट म्यूजियम, किंडरगार्डन से लेकर विश्वविद्यालय स्तर तक का द सोका एजुकेशन सिस्टम, टोडा इंस्टीट्यूट फार ग्लोबल पीस एंड पालिसी रिसर्च एवं इकेदु सेंटर फार पीस, लर्निंग एंड डायलाग के भी संस्थापक रह चुके हैं । वह बौद्ध सिद्धांतों पर आधारित कई कार्यों के लेखक रहे हैं और पूरी दुनिया में विभिन्न सांस्कृतिक गतिविधियों से लेकर प्रमुख विचारकों के डायलागों का संग्रहण कर 50 से अधिक पुस्तकों का प्रकाशन करा चुके हैं ।
देखें : www.daisakuikeda.org
 स्रोत : सोका गकाई इंटरनेशनल संपर्क : जोआन एंडरसन पब्लिक इन्फार्मेशन आफिस सोका गकाई इंटरनेशनल टेलीफोन : 81 3 5360 9482 फैक्स : 81 3 5360 9885 ई-मेल : जेएंडरसन एट एसजीआई डाट जीआर डाट जेपी क्योदो जेबीएन- एशियानेट : रंजन रंजन पीडब्ल्यूआर1 11221518 दि