ग्रामीण फाउंडेशन, ग्रामीण कैपिटल इंडिया और ग्रामीण-जमील ने फंडिंग प्रतिबंधों से जूझ रहे समाज केंद्रित भारतीय माइक्रोफाइनेंस संस्थानों के लिए हाथ मिला

स्रोत: Grameen Foundation 42649
श्रेणी: General
 
 
 
23/12/2010 12:57:48:390AM
 
ग्रामीण फाउंडेशन, ग्रामीण कैपिटल इंडिया और ग्रामीण-जमील ने फंडिंग प्रतिबंधों से जूझ रहे समाज केंद्रित भारतीय माइक्रोफाइनेंस संस्थानों के लिए हाथ मिलाया मुंबई, भारत और वाशिंगटन, 20 दिसंबर, 2010, पीआरन्यूजवायर- एशियानेट ।
स्थानीय बैंकों से फाइनेंशिंग को सहयोग करने के लिए 80 लाख डालर का गारंटी पूल पेश करेंगे ग्रामीण फाउंडेशन और इसकी सहायक संस्थाएं ग्रामीण कैपिटल इंडिया तथा ग्रामीण-जमील माइक्रोफाइनेंस लिमिटेड ने भारतीय माइक्रोफाइनेंस संस्थाओं : एमएफआई : की लिक्विडिटी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए आज एक नई पहल की घोषणा की जो सामाजिक और वित्तीय रिटर्न पर डबल-बाटम-लाइन फोकस प्रदर्शित करेगी ।
(Logo: http://photos.prnewswire.com/prnh/20101219/DC19839LOGO-a)
     (Logo: http://photos.prnewswire.com/prnh/20101219/DC19839LOGO-b)
     (Logo: http://photos.prnewswire.com/prnh/20091026/GFLOGO )
 आंध्र प्रदेश की घटनाओं के कारण पिछले तीन महीने से समस्त भारत में स्थानीय बैंक फाइनेंशिंग काफी कमजोर पड़ गई है और इस नई पहल से इस सेक्टर की फंडिंग के लिए बैंकों के हितों को फिर से उभारा जाएगा । सामाजिक विषयों पर केंद्रित माइक्रोफाइनेंस सभी तीनों ग्रामीण संगठनों के कार्य पर मुख्य रूप से फोकस करती रही है । यह समूह गारंटी फंड में 80 लाख डालर उपलब्ध कराएगा जिससे स्थानीय बैंकों से गरीबों पर केंद्रित एमएफआई को स्थानीय मुद्रा में 1.60 करोड़ डालर की न्यूनतम राशि मुहैया कराने की उम्मीद की जाती है ।
मान्य कानून द्वारा स्वीकृत और एमएफआई के लिए उपलब्ध कराए गए गारंटी फंड में ग्रामीण फाउंडेशन और ग्रामीण-जमील की कुल 40 लाख डालर की राशि शामिल की जाएगी और इसकी व्यवस्था मुंबई स्थित ग्रामीण कैपिटल इंडिया द्वारा की जाएगी ।
ग्रामीण फाउंडेशन के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी एलेक्स काउंट्स ने कहा, ‘‘माइक्रोफाइनेंस संस्थाओं की स्पष्ट रूप से यह प्रदर्शित करने की जिम्मेदारी बनती है कि वे निर्धनतम लोगों के करीब पहुंच रही हैं और उनके द्वारा मुहैया कराए जाने वाले कर्ज उन्हें गरीबी से मुक्ति दिला रहे हैं । यह पहल ऐसी भारतीय संस्थानों पर फोकस करेगी जिनका इतिहास दायित्व, पारदर्शिता और गरीबी कम करने के नतीजे हासिल करने से संबंधित परिणामों से जुड़ा रहा है । बेहतरीन कार्य करने वाले और समृद्ध नैतिकता लागू करने वाली माइक्रोफाइनेंस संस्थाएं गरीबी के खिलाफ मुकाबले का एक शक्तिशाली हथियार हो सकती हैं । हम नैतिक और बेहतरीन कार्य करने वाली माइक्रोफाइनेंस संस्थाओं को अपने दीर्घकालीन सहयोग जारी रखे हुए हैं और उम्मीद करते हैं कि अन्य संस्थाएं भी हमारे साथ जुड़ेंगी तथा इस सेक्टर के लिए लिक्विडिटी सुनिश्चित करेंगी ।’’ ग्रामीण कैपिटल इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रायस्टोन ब्रेगेंजा ने कहा, ‘‘आंध्र प्रदेश में हुई हाल की घटनाओं ने देशभर में व्यापक लिक्विडिटी संकट पैदा कर दिए हैं जहां सभी को फंडिंग मिल रही है लेकिन संकट अभी भी जारी है और खासकर जब छोटी-छोटी एमएफआई की बात की जाए । हम उन सभी एमएफआई को इस सुविधा के जरिये अहम सहायता करते हुए पूंजी दबावों को आसान करने में मदद करना चाहते हैं जो स्पष्ट रूप से वित्तीय और सामाजिक मानदंडों को पूरा करते हों ।’’ यह सुविधा हासिल करने की योग्यता पाने के लिए एमएफआई को पिछले वर्ष स्वीकृत औद्योगिक दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए निश्चित रूप से सोशल-रेटिंग या प्रभाव-मूल्यांकन रिपोर्ट पूरा करना होता है । अन्यथा दूसरा विकल्प है कि उन्हें प्रोग्रेस आउट आफ पोवर्टी इंडेक्स :टीएम: जैसे मान्य सोशल-परफारमेंस मेजरमेंट टूल का सक्रियतापूर्वक इस्तेमाल करना चाहिए ।
दुबई स्थित ग्रामीण-जमील माइक्रोफाइनेंस लिमिटेड के महाप्रबंधक जूलिया असाद ने कहा, ‘‘माइक्रोफाइनेंस संस्थाओं को गरीबों की मदद के अपने मूल मकसद पर खरा उतरने के लिए यह महत्वपूर्ण है कि जो माइक्रोफाइनेंस संस्थाएं इस उद्देश्य में सहयोग प्रदर्शित करती हैं वही अपनी जरूरत के मुताबिक फंडिंग हासिल कर सकती हैं । इस कार्यक्रम के जरिये हम यह दिखाना चाहते हैं कि माइक्रोफाइनेंस संस्थाएं अपने मुख्य सामाजिक सिद्धांतों पर टिके रहते बिना वित्तीय रूप से समृद्ध हो सकती हैं ।
ग्रामीण फाउंडेशन के बारे में वैश्विक स्तर की एक गैर-लाभकारी संस्था ग्रामीण फाउंडेशन विश्व के सबसे गरीब लोगों को वित्तीय, तकनीकी सहायता प्रदान करते हुए उनकी गरीबी दूर करती है और ऐसे स्थानीय संगठनों को प्रबंधन रणनीतियां प्रदान करती है जो उन गरीबों की सेवा करते हैं । यह प्रौद्योगिकी कार्यक्रमों का भी नेतृत्व करती है जिनसे गरीबों के लिए माइक्रोबिजनेस अवसर तैयार होते हैं और स्वास्थ्य, कृषि तथा वित्तीय सूचना एवं अन्य सेवाओं तक गरीबों की पहुंच में सुधार आता है । वर्ष 1997 में स्थापित ग्रामीण फाउंडेशन के कार्यालय वाशिंगटन, डीसी, सिएटल, डब्ल्यूए, कोलंबिया, घाना, हांगकांग, फिलीपींस तथा युगांडा में हैं । माइक्रोफाइनेंस के प्रमुख और ग्रामीण बैंक के संस्थापक तथा वर्ष 2006 में नोबेल शांति पुरस्कार विजेता डा. मोहम्मद यूनुस इसके निदेशक मंडल के संस्थापक सदस्य हैं और अब सेवानिवृत निदेशक के तौर पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं । अधिक जानकारी के लिए कृपया देखें ग्रामीणफाउंडेशन डाट ओआरजी ग्रामीण कैपिटल इंडिया के बारे में ग्रामीण कैपिटल इंडिया कम खर्च वाले आन-लेंडिंग फंड जुटाने के लिए माइक्रोफाइनेंस संस्थाओं : एमएफआई : को इनोवेटिव कर्ज और इक्विटी समाधानों के जरिये कैपिटल मार्र्केट और मुख्य रूप से घरेलू बाजार तक व्यापक पहुंच प्रदान करते हुए क्रेडिट संवर्धन तथा कैपिटल एडवायजरी सेवाएं देने में सक्षम बनाती है । ग्रामीण कैपिटल बेस-आफ-द-पिरामिड सेगमेंट पर केंद्रित अन्य सामाजिक उद्योगों को भी सक्रिय सेवाएं प्रदान करती है । ग्रामीण फाउंडेशन, आईएफएमआर ट्रस्ट और सिटीकार्प फाइनेंस इंडिया लिमिटेड के बीच एक साझा सहयोग का नतीजा है ग्रामीण कैपिटल इंडिया । अधिक जानकारी के लिए कृपया देखें http://www.grameencapital.in/ 
ग्रामीण-जमील माइक्रोफाइनेंस लिमिटेड के बारे में ग्रामीण जमील की स्थापना ग्रामीण फाउंडेशन और अब्दुल लतीफ जमील ग्रुप की सहायक कंपनी एएलजी फाउंडेशन के बीच संयुक्त उपक्रम के तहत वर्ष 2003 में हुई थी और वर्ष 2007 में यह निगमित हुई । पश्चिम एशिया और उत्तरी अमेरिका : एमईएनए : में यह पहली सामाजिक कारोबारी कंपनी है जो माइक्रोफाइनेंस सेक्टर के उत्थान में मदद के लिए वित्तीय सहयोग तथा तकनीकी सहायता प्रदान करते हुए माइक्रोफाइनेंस संस्थाओं : एमएफआई : के साथ रणनीतिक भागीदारी कायम रखते हुए इस क्षेत्र में गरीबी उन्मूलन पर केंद्रित रहती है । वर्ष 2010 तक ग्रामीण-जमील ने एमईएनए क्षेत्र के 9 देशों में अपने एमएफआई भागीदारों के जरिये 600,000 से अधिक माइक्रोफाइनेंस ग्राहकों तक पहुंच बनाते हुए 5.20 करोड़ अमेरिकी डालर से ज्यादा की राशि का वित्तीय प्रबंधन किया है और इसका इरादा विश्व के अन्य देशों में मौजूद माइक्रोफाइनेंस संस्थाओं को भी सहयोग करने का है ।
स्रोत : ग्रामीण फाउंडेशन संपर्क : मीडिया लिसेली योर्क ग्रामीण फाउंडेशन 202 628 3560 एक्स 128 मोबाइल : 202 549 3400 एलयोर्क एट ग्रामीणफाउंडेशन डाट ओआरजी पीआरन्यूजवायर- एशियानेट : रंजन रंजन पीडब्ल्यूआर2 12200928 दि