ईओपीएम ने पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के गवर्नर की हत्या की निंदा की

स्रोत: EOPM 42859
श्रेणी: General
 
 
 
12/01/2011 11:48:35:940PM
 
ईओपीएम ने पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के गवर्नर की हत्या की निंदा की
 ब्रुसेल्स, 12 जनवरी, पीआरन्यूजवायर- एशियानेट ।
यूरोपियन आर्गेनाइजेशन आफ पाकिस्तानी माइनोरिटीज : ईओपीएम : ने पाकिस्तान में पंजाब प्रांत के गवर्नर सलमान तासीर की निर्दयी और नृशंस हत्या के बाद उनके परिजनों तथा समर्थकों के प्रति शोक संदेश प्रेषित किया है । तासीर ने पाकिस्तान के लोकतांत्रिक ढांचे को बिगाड़ने की कोशिश करने वाली कट्टरपंथी ताकतों के खिलाफ आवाज उठाई थी और उन्होंने ईशनिंदा की कथित आरोपी ईसाई महिला आसिया बीबी को एक पाकिस्तानी अदालत द्वारा मौत की सजा सुनाए जाने की निंदा करते हुए राष्ट्रपति से क्षमा याचना सुनिश्चित करने के प्रयास किए थे । इसी बात से नाराज कट्टरपंथियों ने तासीर की हत्या कर दी ।
हालांकि नृशंस हत्या अपने आप में कायराना तथा अचंभित कर देने वाली हरकत है लेकिन समर्थकों और चाटुकारों ने उस हत्यारे की जमकर तारीफ की जो गवर्नर की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार सिक्योरिटी फोर्स का एक सदस्य था । इससे पाकिस्तान की पीड़ादायी आंतरिक स्थिति का पता चलता है । रिपोर्ट में कहा गया है कि हत्यारे के तार दवात-ए-इस्लामी और तालिबान तक से जुड़े हुए थे ।
देश में इस तरह की गैरकानूनी गतिविधियों की सहनशीलता अल्पसंख्यकों पर बड़े पैमाने पर हो रही हिंसा को ही बढ़ावा देती है और उन पर इस तरह के कायराना तथा निर्दयी हमले तेज करने को प्रोत्साहन देगी ।
पाकिस्तानी सरकार और इसकी एजेंसियों की विश्वसनीयता घेरे में है और ईओपीएम पश्चिमी देशों की सरकारों तथा अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों से अपील करती है कि वे पाकिस्तानी अल्पसंख्यकों की दयनीय स्थिति के समाधान जैसे मुद्दों को जोर-शोर से उठाने के लिए राजनीतिक साहस का परिचय देते हुए पाकिस्तानी नेताओं को प्रोत्साहित करें ।
ईओपीएम पाकिस्तानी सरकार और इसकी एजेंसियों से अपील करती है कि वे ऐसे कट्टरपंथियों और आतंकवादियों के तुष्टीकरण की नीति बंद करे जो सिर्फ हिंसा और रक्तपात की कार्रवाई को ही बढ़ावा देते हों । ईओपीएम का मानना है कि पाकिस्तान सरकार यदि इस मामले में कार्रवाई नहीं करती है तो नरमपंथी राजनेताओं, नेताओं, मीडिया तथा मानवाधिकार संरक्षकों पर हिम्मत हारने का दबाव बनता है और इससे उग्र सुधारवादी प्रक्रिया को गति देने के काम को भी झटका लगता है ।
ईओपीएम ने पाकिस्तान सरकार से साहसिक कदम उठाने और ईशनिंदा कानून में संशोधन की मांग की है और अपील की है कि वंचित, कमजोर तथा बेजुबान जमातों के हिमायती की पर्याप्त सुरक्षा तथा संरक्षण किया जाए । तासीर की हत्या की जांच और इस नृशंस अपराध के साजिशकर्ताओं के खिलाफ उठाए गए सख्त कदम सही संदेश प्रसारित करेंगे और ये कदम इस धारणा को भी बदल देंगे कि पाकिस्तान सरकार और इसकी एजेंसियां समाधान के बजाय अधिक समस्या खड़ी कर रही है ।
ईओपीएम का मानना है कि आसिया बीबी का मामला मौजूदा प्रणाली की समस्याओं का सिर्फ एक उदाहरण है जिनसे देश जूझ रहा है और माननीय गवर्नर की बेवजह हत्या से यह बात एक बार फिर सामने आई है । तासीर अपने साहस और दृढ़ता के लिए इतिहास में शहीद का दर्जा पा चुके हैं । वर्ष 2011 में पूजा स्थलों पर हमलों सहित अल्पसंख्यकों पर हिंसा और रक्तपात की कई भयानक घटनाएं हुई हैं । पाकिस्तान में मौजूद अल्पसंख्यक अपने उपर होती हिंसा झेलते रहेंगे क्योंकि इस हत्याकांड के बाद उनकी मौजूदगी और ज्यादा दयनीय हो गई है और जब तक पाकिस्तान सरकार कोई कार्रवाई नहीं करती है या कार्रवाई के लिए पश्चिमी देशों द्वारा दबाव नहीं बढ़ाया जाता है तब तक सुधारवादी तत्वों को भी इस तरह के कृत्य का सामना करना पड़ेगा ।
http://www.eopm.org

स्रोत : यूरोपियन आर्गेनाइजेशन आफ पाकिस्तानी माइनोरिटीज पीआरन्यूजवायर- एशियानेट : रंजन रंजन पीडब्ल्यूआर3 01120957 दि