इंडिया मीटिंग में बायोलाजिकल, केमिकल ड्रग तथा सार्वजनिक स्वास्थ्य के गुणवत्तापूर्ण मानदंड पर फोकस रहेगा

स्रोत: U.S. Pharmacopeial 43003
श्रेणी: Medical and Health Care
 
 
 
25/01/2011 11:55:26:350AM
 
इंडिया मीटिंग में बायोलाजिकल, केमिकल ड्रग तथा सार्वजनिक स्वास्थ्य के गुणवत्तापूर्ण मानदंड पर फोकस रहेगा
 राकविले, एमडी, 25 जनवरी, 2011, पीआरन्यूजवायर- एशियानेट ।
यूएसपी ने दसवें साइंस एंड स्टैंडर्डस सिंपोजियम के लिए आईपीसी के साथ भागीदारी की ।
प्रमुख शेयरधारकों के सहयोग से यूनाइटेड स्टेट्स फार्माकोपियल कन्वेंशन : यूएसपी : तथा इंडियन फार्माकोपिया कमीशन : आईपीसी : हैदराबाद, भारत में 17 और 18 फरवरी 2011 को 2011 आईपीसी-यूएसपी 10वां साइंस एंड स्टैंडर्ड सिंपोजियम की मेजबानी करेंगे । यह कार्यक्रम वैश्विक स्तर पर दवाओं की आपूर्तिकर्ता के रूप में भारत की तरक्की को दर्शाता है जिस वजह से वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने की खातिर यूएसपी अपनी भारतीय समकक्ष कंपनी के साथ आ रही है ।
इस सिंपोजियम का लक्ष्य मानक निर्धारक निकायों, सरकारी अधिकारियों, नीति निर्माताओं, फार्मास्यूटिकल विनिर्माताओं और शिक्षाविदों जैसे प्रमुख शेयरधारकों के बीच विज्ञान आधारित बातचीत की सुविधा प्रदान करना है ताकि इस क्षेत्र पर असर करने वाले प्रासंगित मुद्दों पर चर्चा की जा सके और फिर गुणवत्तापूर्ण दवाओं की पहुंच और ज्यादा कारगर की जा सके । इसमें हिस्सा लेने वालों को विचारवान प्रमुखों के साथ नेटवर्क बनाने का अवसर प्राप्त होगा, औद्योगिक बेंचमार्क सूचनाएं हासिल होंगी और आईपीसी तथा यूएसपी दोनों के लिए मानक निर्धारण प्रक्रिया में शुरुआती योगदान मिलेगा ।
यूएसपी तथा आईपीसी के अलावा अतिरिक्त सह प्रायोजकों में बल्क ड्रग मैन्युफैक्चर्स एसोसिएशन : बीडीएमए :, इंडियन ड्रग मैन्युफैक्चर्स’ एसोसिएशन :आईडीएमए:, आर्गेनाइजेशन आफ फार्मास्यूटिकल प्रोड्यूशर्स आफ इंडिया :ओपीपीआई : तथा फार्मेसी काउंसिल आफ इंडिया : पीसीआई : शामिल हैं ।
यूएसपी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रोजर एल. विलियम्स, एम.डी. ने कहा, ‘‘पिछले एक दशक से चल रहीं इन सालाना आईपीसी-यूएसपी बैठकों में संपूर्ण भारतीय फार्मास्यूटिकल परिवेश के अलावा अमेरिका तथा अन्य देशों के प्रमुख निर्यातक और इनोवेटर एकत्रित होते आ रहे हैं । वैश्विक फार्मास्यूटिकल उद्योग में भारत की भूमिका जिस तेजी से बढ़ना जारी है, उसे देखते हुए भारत में और पूरी दुनिया में इसके भागीदारों के साथ साझेदारी सार्वजनिक स्वास्थ्य सुनिश्चित करने में मदद के लिए आवश्यक हो गई है ।’’ इससे पूर्व के कार्यक्रमों को एनुअल साइंटिफिक मीटिंग्स के नाम से जाना जाता है ।
केमिकल ड्रग के सत्र सिंपोजियम के मुख्य अंशों का हिस्सा होंगे जिसमें डिजाइन, मानक निर्धारण, अशुद्धियों, केमिकल रेफरेंस मैटेरियल्स-अनिश्चितता मूल्यांकन और दवाओं की जालसाजी की रोकथाम के लिए रणनीतियों जैसे मुद्दों और गुणवत्ता पर ध्यान दिया जाएगा । बायोलाजिकल ड्रग पर भी इन सत्रों में जोर दिया जाएगा जिसमें नियामक पहल, बायोलाजिक एवं बायोटेक्नोलाजी ड्रग के मानक, गंभीर गुणवत्ता से जुड़ी विशेषताओं, रेफरेंस मैटेरियल्स, वैक्सीन एवं मोनोक्लोनल एंटीबाडी के मानक और नकली दवाओं की रोकथाम के लिए रणनीतियां तैयार की जाएंगी ।
आईपीसी के सेक्रेटरी-कम-साइंटिफिक डायरेक्टर जी. एन. सिंह, पीएच. डी. ने कहा, ‘‘आईपीसी यूएसपी के साथ अपने दीर्घकालीन संबंधों को अहमियत देती है । हमें पूरा भरोसा है कि इस वर्ष का फोरम मानक निर्धारण में आईपीसी तथा यूएसपी के समक्ष आने वाली परिस्थितियों और मुद्दों से जुड़े भागीदारों के बीच एक बेहतर समझ पैदा करने का परिणाम देगा ।’’ मीटिंग के एजेंडे और पंजीकरण जानकारी के लिए यूएसपी की वेबसाइट देखें http://www.usp.org/meetings/asMeetingIntl/
विशेष जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें मीडियारिलेशंस एट यूएसपी डाट ओआरजी यूएसपी- वर्ष 1820 से सार्वजनिक स्वास्थ्य की हिमायती यूनाइटेड स्टेट्स फार्माकोपियल कन्वेंशन : यूएसपी : एक वैज्ञानिक, गैर लाभकारी, मानक निर्धारक संस्था है जो सार्वजनिक मानकों और संबंधित कार्यक्रमों के जरिये सार्वजनिक स्वास्थ्य को आगे बढ़ाती है जिससे दवाओं और खाद्यान्न की गुणवत्ता, सुरक्षा तथा लाभ सुनिश्चित करने में मदद मिल सके । यूएसपी के मानकों को वैश्विक स्तर पर मान्यता प्राप्त है और इनका हर जगह इस्तेमाल किया जाता है । यूएसपी के बारे में विशेष जानकारी के लिए कृपया देखें http://www.usp.org संपर्क : थेरेसा लारेनांग-मटलू 1 301 816 8167, टीआरएल एट यूएसपी डाट ओआरजी स्रोत : यू. एस. फार्माकोपियल कन्वेंशन संपर्क : थेरेसा लारेनांग-मटलू, 1 301 816 8167, टीआरएल पीआरन्यूजवायर- एशियानेट : रंजन रंजन पीडब्ल्यूआर2 01251138 दि