महामहीम शेख मोहम्मद बिन जायेद अल नाहान और बिल व मेलिंदा गेटस फाउंडेशन ने बच्चों का टीकाकरण करने के लिए साझीदारी की ।

स्रोत: Bill & Melinda Gates Foundation-43015
श्रेणी: Medical and Health Care
 
 
 
29/01/2011 10:54:38:490AM
 
सिएटल और अबूधाबी, संयुक्त अरब अमीरात 26 जनवरी, 2011 पीआर न्यूजवायरएशियानेट
अफगानिस्तान और पाकिस्तान में उपचारयोग्य बीमारियों से संघर्ष करने के लिए दोनों ने एकसाथ मिलकर 10 करोड डालर खर्च करने का वचन दिया
अबूधाबी के युवराज और संयुक्त अरब अमीरात सेना के उप प्रमुख सेनापति महामहीम शेख मोहम्मद बिन जायेद अल नाहान और बिल मेलिंदा गेटस फाउंडेशन के उपाध्यक्ष बिल गेटस ने आज घोषणा किया कि वे अफगानिस्तान और पाकिस्तान में बच्चों को जीवनरक्षक टीका प्रदान करने के लिए एकसाथ काम कर रहे हैं
इस साझीदारी में प्रमुख टीकाओं की खरीददारी और सुपुर्दगी के लिए कुल दस करोड डालर खर्च करने की वचनबध्दता है जिसमें दोनों साझीदार पांचपांच करोड डालर का योगदान करेंगे इस टीकाकरण से पाकिस्तान और अफगान बच्चों को जीवनभर के लिए विभिन्न बीमारियों से बचाया जा सकेगा
शेख मोहम्मद बिन जायेद ने कहा कि ‘‘अन्य बच्चों की तरह अफगानिस्तान और पाकिस्तान के बच्चों को भी गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य और बचपन में जरूरी टीकाकरण प्राप्त करने का अधिकार है
उपचारयोग्य बीमारियों से मुक्त होकर विकसित होने वाली पीढी से व्यक्तिगत, सामुदायिक, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय लाभ प्राप्त होगे जिसका प्रभाव आने वाली पीढियों पर भी होगी ’’ अफगानिस्तान और पाकिस्तान के बच्चे उपचारयोग्य बीमारियों जैसेपोलियो और न्यूमोनिया से ग्रस्त होने के विशेषरूप से जोखिम में हैं उनके पास पहुंचने की चुनौतियों में क्षेत्र में हथियारबंद संघर्ष की हालत, दोनों देशों के विभिन्न प्रांतों में असमान स्वास्थ्य सेवाएं और टीकाकरण की हालत और पाकिस्तान में पिछले वर्ष की बाढ़ के विनाश से उबरने की मंथर गति भी शामिल है
श्री गेटस ने कहा कि ‘‘टीकाकरण इन बच्चों को बचपन में होने वाली अनेक जानलेवा बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करेगी और उन्हें स्वस्थ्य ढंग से जीवन आरंभ करने का सर्वोत्तम तरीका प्रदान करेगी ।’’ ‘‘यह साझीदारी एक मजबूत उदाहरण है कि वैश्विक समुदाय के आपसी सहयोग से कैसे अफगान और पाकिस्तानी बच्चों, उनके परिवारों और समुदायों को अधिक स्वास्थ्यपूर्ण और अधिक टिकाउ भविष्य बनाने में सहायता प्रदान कर सकता है ।’’ अफगानिस्तान के चार बच्चों में एक अपना पांचवे जन्मदिवस तक जीवित नहीं रह पाता जिससे देश में जन्मजात बच्चों और पांच वर्ष से कम उम्र में बालमृत्यु की दर विश्व में सबसे अधिक है
कूल रकम का दो तिहाई जीएवीआई एलायंस को उपचारात्मक टीकाओं की खरीददारी और सुपुर्दगी के लिए और अफगानिस्तान में नया न्यूमोकोकल टीकाकरण आरंभ करने के लिए दिया जाएगा
इन टीकाओं से पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों की मौत के सबसे बडे कारणों जिसमें नयूमोनिया, डायपिथेरिया, परटसीस:हूपिंग कफ: टेटनस, हेपेटाइटिस बी और हीमोफिलस इंफ्लुएंजा टाइप बी :एचआईबी:जिससे मेनिंगाइटिस होता है शामिल हैं, से बच्चों को सुरक्षित किया जा सकेगा
आवंटित रकम में बाकी बचे 3 करोड 40 लाख डालर विश्व स्वास्थ्य संगठन और यूनिसेफ को प्रदान किया जाएगा जिससे अफगानिस्तान और पाकिस्तान के बच्चों को पोलियो टीका प्रदान किया जा सके
हालांकि विश्वस्तर पर पोलियो की घटनाएं पिछले 20 वर्ष में 99 प्रतिशत कम हो गई हैं, पर अफगानिस्तान और पाकिस्तान उन चार देशों में से दो हैं जहां पोलियो संक्रमण को कभी रोका नहीं जा सका
वर्तमान में इन दोनों देशों की आबादी में इस मरणांतक बीमारी के पूनसर्ंक्रमण की घटनाएं जारी हंै
इस साझीदारी के अंतर्गत अफगानिस्तान में छह मरणांतक बीमारियों से करीब पचास लाख बच्चों का टीकाकरण किया जा सकेगा और विश्व स्वास्थ्य संगठन तथा युनिसेफ कार्यकर्ताओं को अफगानिस्तान और पाकिस्तान के करीब साढे तीन करोड बच्चों को मौखिक पोलिया टीका प्रदान करने में सहायता करेगा
हाईरिजोल्यूशन स्थिर तस्वीरों और फाउड्रेशन के कामकाज के बारे में सूचनाओं के लिए कृपया निम्नलिखित वेबसाइट को देखें :-
http://www.gatesfoundation.org/press-room/Pages/news-market.aspx. 
बिल मेलिंदा गेटस फाउंडेशन :- प्रत्येक व्यक्ति के जीवन का मूल्य समान है, इस सिद्धांत पर काम करते हुए बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन सभी व्यक्तियों के स्वास्थ्य और उत्पादनशील जीवन में मदद करने के लिए काम करती है
विकासशील देशों में यह लोगों के स्वास्थ्य में सुधार लाने और उन्हें भूख तथा अत्यधिक गरीबी से बाहर निकालने के अवसर प्रदान करने पर केंद्रित रहती है अमेरिका में यह संस्था यह सुनिश्चित करना चाहती है कि सभी लोग खासकर न्यूनतम संसाधनों वाले व्यक्तियों को स्कूल तथा जीवन में सफलता पाने के लिए आवश्यक अवसरों की प्राप्ति हो।
वाशिंगटन के सिएटल में स्थित इस फाउंडेशन को बिल एंड मेलिंडा गेट्स तथा वारेन बफेट के निर्देशन में कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जेफ रेकीज एवं सहअध्यक्ष विलियम एच. गेट्स सीनियर के नेतृत्व में संचालित करते हैं
अधिक जानकारी के लिए देखें :-  http://www.gatesfoundation.org

 या फेसबुक पर विचारविमर्श में शामिल हों ::(http://www.facebook.com/billmelindagatesfoundation
और ट्वीटर (http://twitter.com/gatesfoundation).
 अफगानिस्तान और पाकिस्तान के लिए संयुक्त अरब अमीरात की मानवीय सहायता :- अफगानिस्तान :- वर्ष 2009 में चारोंतरफ फैली असुरक्षा, हिंसा में बढोतरी, गरीबी, चिरकालीक अविकास, और प्राकृतिक आपदाएं जैसे भूकंप और बाढों के योगदान को अफगानिस्तान की खाद्य असुरक्षा तीव्रता प्रदान करने के कारण के रूप में रेखांकित किया गया
राष्ट्रीय जोखिम और संक्रमण शीलता आंकलन ने 2007-2008 में पाया कि 74 लाख लोगकूल आबादी के करीब एक तिहाईस्वस्थ्य और सक्रिय जीवन व्यतित करने लायक पर्याप्त भोजन प्राप्त करने में सफल नहीं होते
संयुक्त अरब अमीरत ने 2009 में अफगानिस्तान को 1.26 अरब एईडी : करीब 34 करोड 34लाख 40 हजार अमेरीकी डालर: की सहायता दी जो उस वर्ष संयुक्त अरब अमीरत की कूल विदेशी सहायता का 14 प्रतिशत रहा
हालांकि यूएई के अनेक दानदाता अफगानिस्तान में सक्रिय हैं, पर उनकी सहायता का करीब 73 प्रतिशत :91करोड 80 लाख एईडी: अनुदान अबूधाबी विकास कोष के रूप में प्रदान किया गया
अधिकांश रकम :86करोड 32 लाख एईडी: का आवंटन निर्माण कार्यो के लिए हुआ बाकी रकम परिवहन और भंडारण में खर्च हुआ कोई 2 करोड 68 लाख एईडी सामाजिक अधिसंरचना और सेवाओं में खर्च हुआ
यूएई ने अफगानिस्तान में उल्लेखनीय मानवीय सहायता करना जारी रखा और उसने यह काम 2003 से लगातार किया है रेडक्रेसेंट जैसे संगठनों के माध्यम से यूएई के नागरिकों और स्वयंसेवियों द्वारा मुक्तहस्त दान ने निम्नलिखित निर्माण कार्यो में योगदान दिया– – 11 विद्यालय जिनमें प्रतिदिन 300 बच्चों को शिक्षा प्रदान किया जाता है
छह चिकित्सा क्लीनिक जिसमें 35 हजार अफगान मरीजों को इलाज किया गया है
जायेद विश्वविद्यालय, अफगानिस्तान, जो प्रतिवर्ष 6 हजार 400 छात्रों को अध्ययन की सुविधा देता है
एक बडा अस्पताल जिसकी वाषिर्क क्षममा सात हजार मरीजों की है
– 38
मस्जिद जिनमें प्रत्येक में 300 से अधिक लोगों के एक साथ इबादत करने की सुविधा दी जाती है
एक सार्वजनिक पुस्तकालय जो प्रतिदिन 400 से अधिक छात्रों और आगंतुकों को अपनी सेवाएं प्रदान करता है
जायेद नगर में 200 विस्थापित लोगों के लिए आवासीय सुविधा, और – 160 कुआं जो स्वास्थ्यकर पेयजल प्रदान करते हैं
पाकिस्तान :- वर्ष 2009 में पाकिस्तानी फौज और तालिबान के बीच झडपों की वजह से पाकिस्तान के उत्तर पश्चिमी सीमा प्रांत, स्वाट घाटी, दक्षिण वजीरिस्तान और अन्य इलाकों से करीब बीस लाख लोग अपने घरों से विस्थापित हो गए इसके अलावा पाकिस्तान के उत्तरपूर्व में पंजाब क्षेत्र में आई बाढ की वजह से दो करोड लोग विस्थापित हुए
पाकिस्तानी लोगों की आवश्यकताएं पाकिस्तान की सरकार की क्षमता से अधिक हो गई और यूएई को व्यापक सहायता देने की आवश्यकता लगी कूलमिलाकर, पाकिस्तान का यूएई के दानदाताओं से 1.60 अरब एईडी की वचनबध्दता प्राप्त हुई
इसके अतिरिक्त, यूएई सेना ने यूएई के तीन चिनूक भेजे ताकि बाढ से विध्वस्त पाकिस्तान के दूरदराज के इलाकों में राहत और सहायता कार्य संचालित किए जा सकें
सरकार ने 99करोड 85 लाख एईडी के अनुदान की घोषणा की जिसे अबुधाबी विकास कोष से प्रदान किया जाएगा यह अनुदान पाकिस्तान सरकार की प्रकल्प प्रस्तावों पर दिया गया
आवंटित सहायता राशि का आधा से अधिक स्वास्थ्य कार्यक्रमों पर खर्च किए जाएगे और करीब एक तिहाई सामान्य मानवीय सहायता के रूप में खर्च किया जाएगा जो ऐसा क्षेत्र है जिसमें आपातकालीन व्यवस्थाएं, पुनर्निर्माण और आपदा से बचाव की तैयारी शामिल हैं
खलीफा फाउंडेशन ने विस्थापित आबादी की तात्कालीक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अनेक प्रकार की सहायता दी जिसमें एक प्रमुख सहायता शरणर्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र के उच्चायुक्त को 5 करोड 51 लाख एईडी की सहायता भी शामिल है जिसे वर्ष के दौरान पूरीतरह खर्च कर दिया गया
सरकार ने वर्ष के दौरान 59 करोड 6 लाख एईडी की एक अन्य सहायता भी की जिसके दो तिहाई से अधिक स्वास्थ्य परियोजनाओं में खर्च करने की गई यूएई रेड क्रेसेंट अधिकारियों ने भी दो करोड 5 लाख एईडी से अधिक की सहायता दी
स्रोत :- बिल मेलिंदा गेटस फाउंडेशन संपर्क :- बिल मेलिंदा गेटस फाउंडेशन 1-206-709-3400 साइमन डाट पीयर्स :एैट: ईएए डाट जीओवी डाट एई 971-50-8181-627