बिल गेट्स ने अमेरिका, वैश्विक नेताओं का विकासशील देशों की कृषि में निवेश करने के लिए आह्वान किया

स्रोत: BILL &MELINDA ASIANET 44725
श्रेणी: General
 
 
 
25/05/2011 8:49:22:390PM
 
 बिल गेट्स ने अमेरिका, वैश्विक नेताओं का विकासशील देशों की कृषि में निवेश करने के लिए आह्वान किया
 वाशिंग्टन, 24 मई, 2011:पीआरन्यूजवायर-एशियानेट :-
 ‘‘गरीब कृषक परिवारों की ज्यादा से ज्यादा अनाज उपजाने और उन्हें बाजार तक लाने के लिए मदद करना ही दुनिया से गरीबी और भूख घटाने का एकमात्र शक्तिशाली लीवर यही है ’’ ऐसा बिल एण्ड मिलेण्डा गेट्स फाउंडेशन के सह-अध्यक्ष बिल गेट्स ने आज, राजनीतिक, व्यावसायिक और विकसित नेताओं के समूह से कही, उन्होंने विकासशील देशों में कृषक परिवारों की मदद को, गरीबी और भूख से लड़ने में बेहद अहम बताया ।
गेट्स ने कहा, ‘‘मैं आज यहां पर अमेरिका और अन्य देशों से गरीब कृषक परिवारों के लिए कृषि के विकास हेतु कोष जुटाने का आह्वान करने के लिए आया हूं । ’’ ‘‘इसमें अमेरिका की भूमिका केंद्रीय है ।’’ गेट्स कृषि एवम खाद्य सुरक्षा पर आयोजित शिकागो काउंसिल ऑन ग्लोबल अफेयर्स सिम्पोजियम पर बोल रहे थे, जहां नेतागणों ने अमेरिका के सार्वजनिक और निजी सेक्टर द्वारा कृषि विकास में मदद से विश्व में किस प्रकार सुरक्षा, स्थायित्व, तथा आर्थिक समृद्धि को बढ़ावा दिया जा सकता है, इस पर चर्चा की । इस दौरान उनके साथ यूएस एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेव्लेपमेंट एडमिनिस्टर राजीव शाह, अमेरिका के कृषि सचिव टॉम विल्सैक, विश्व खाद्य कार्यक्रम के कार्यकारी निदेशक जोसेट शिरान और अन्य मौजूद रहे ।
कांग्रेस की सदस्य केय ग्रैन्गर :आर टेक्सास: ने गरीबी और वैश्विक स्वास्थ्य को बेहतर करने के लिए फाउंडेशन द्वारा किये जा रहे प्रयासों का जिक्र करते हुये गेट्स का परिचय कराया ।
ओबामा प्रशासन और अमेरिकी महासभा के उच्च स्तरीय सदस्यों को पहली बार दिये जा रहे अपने प्रमुख सम्बोधन में , गेट्स ने बताया कि दुनिया के तीन-चौथाई गरीब अभी भी अपनी आमदनी के लिए भूमि के छोटे से टुकड़े पर निर्भर है । उन्होंने अफ्रीका और दक्षिण एशिया में चल रहे विकास कार्यों का उदाहरण देते हुये कहा कि, भूख और गरीबी मिटाने के लिए इन छोटे कृषकों को ज्यादा अन्न उपजाने और विक्रय करने में मदद करना ही इन्हें आत्मनिर्भर बनाने का सबसे प्रभावी तरीका है ।
आज दुनिया में, करीब बिलियन लोग भूखे हैं । 2008, में खाद्य कीमत रिकॉर्ड स्तर तक पहुंची, जिससे दंगे, गरीबी, अस्थिरता आई, और कई मिलियन लोग वापिस गरीब हो गये । इस वर्ष की शुरूआत में ,खाद्य कीमतें दोबारा बढ़ीं, यहां तक की तीन वर्ष पहले जिस शिखर पर पहुंची थी उससे भी आगे ।
गेट्स ने सूचित किया कि व्यापक बदलाव हो चुका है । उन्होंने 2009 में जी8 और जी20 की बैठकों में खाद्य सुरक्षा को लेकर की गई 22 बिलियन डॉलर की प्रतिबद्धता को पूरा करने में मदद के लिए अमेरिकी नेतृत्व की प्रशंसा की । हालांकि उनमें से आधी प्रतिज्ञाओं पर काम हो चुका है या वो पूरा होने के कगार पर हैं, गेट्स ने अगले तीन सालों में फीड द फ्यूचर प्रोग्राम के जरिए 3.5 बिलियन डॉलर खर्च किये जाने की राष्ट्रपति ओबामा और कांग्रेस के दोनो पक्षों की प्रतिबद्धता के बारे में भी बताया । उन्होंने 100 मिलियन डॉलर का बजट वैश्विक कृषि और खाद्य सुरक्षा कार्यक्रम के लिए शामिल किये जाने के लिए भी कांग्रेस की सराहना की । उन्होंने बताया कि इस वर्ष फ्रांस ने खाद्य सुरक्षा और कृषि को अपने जी20 एजेंडा में सबसे उपर रखा है ।
गेट्स ने कहा कि, ‘‘हमारा बजट घाटा बड़ा है, और विदेशी सहायता हमेशा से ही एक आसान लक्ष्य रहा है । सो हमें लोगों को बार-बार बताने की ज़रूरत है कि क्यों तंग आर्थिक समय में भी इसमें खर्च करना अच्छा है । ’’ गेट्स ने कहा कि कृषि एक ऐसा व्यवसाय है जो गरीब किसान को आत्मनिर्भर बनाता है और उसके जीवन में सुधार लाता है । उन्होंने विस्तार से बताया कि कैसे फाउंडेशन और उसके साझेदार कृषकों को अच्छे बीज, उर्वरक मिट्टी और बाजार तक पहुंच बनाने के लिए मदद करने के प्रयास कर रहें हैं, इसके साथ ही उन्हें बेहतर डाटा और नीतियों से भी मदद कर रहें हैं ।
गेट्स ने कहा, ‘‘एक से दूसरे देश तक, इस पद्धति ने गरीबी को घटाते हुये और आर्थिक विकास को बढ़ाते हुये छोटे किसानों के जीवन स्तर को सुधारा है । ’’ ‘‘यह उस बिंदु को बार बार साबित कर रहा है: कि गरीब कृषक परिवारों को ज्यादा फसल उपजाने और उनकी बाजार तक पहुंच बनाने में मदद करना ही गरीबी और भूख को घटाने का दुनिया का एकमात्र शक्तिशाली लीवर है । ’’ गेट्स ने फाउंडेशन द्वारा परियोजनाओं के लिए दिये जा रहे कोष के उदाहरण दिये जिससे काफी अच्छे नतीजे सामने आ रहें हैं : – वर्ल्ड फूड प्रोग्राम्स पर्चेस फॉर प्रोग्रेस :पी4पी: परियोजना छोटे किसानों, खासतौर पर महिलाओं की मदद करती है, ताकि वो विश्वसनीय बाजारों तक पहुंच बनाने में सफल हों और अपने अतिरिक्त सामान को प्रतिस्पद्र्धी कीमतों पर बेच पायें । इसे शुरू हुये तीन साल से कम का वक्त लगा है, तब से ही पी4पी ने छोटे किसानों और ट्रेडर्स को अनुमानत 37 बिलियन डॉलर का भुगतान किया है ।
– इंटरनेशनल राइस रिसर्च इंस्टीट्यूट चावल की उच्च -पैदावार वाली नई किस्मों का विकास कर रहा है जो बाढ़ , सूखा, और अन्य पर्यावरण दिक्कतों को भी बर्दाश्त कर पाये । 2010 के अंत तक, 400,000 किसानों ने चावल की नई किस्म को रोपित किया जो 20 दिनों तक जलमग्न रहने के बावजूद भी बची रहीं । उम्मीद है कि, 2011 के अंत तक, परियोजना 20 मिलियन किसानों तक पहुंच जायेगी । चावल की यह किस्में फसल की हानि को कम करेंगी, भूख घटायेंगी, और किसानों के परिजनों की आमदनी को बढ़ायेगी ।
संगोष्ठी में , शिकागो काउंसिल ने पहली बार कृषि विकास में अमेरिकी नेतृत्व की वाषिर्क प्रोग्रेस रिपोर्ट जारी की, जो अमेरिकी सरकार के खाद्य सुरक्षा नीति के विकास, उसके कार्यान्वयन और संसाधनों की पूर्ति को ट्रैक करता है ।
अब तक गेट्स फाउंडेशन ने कृषि विकास के लिए 1.7 बिलियन डॉलर की प्रतिबद्धता दिखाई है । फाउंडेशन छोटे किसानों की मदद के लिए व्यापक दृष्टिकोण अपनाता है ताकि भूख और गरीबी के खिलाफ चल रहे विकास की गति अर्थव्यवस्था और पर्यावरण के लिए चिस्थायी हो ।
बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन
 प्रत्येक व्यक्ति के जीवन का मूल्य समान है, इस सिद्धांत पर काम करते हुए बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन सभी व्यक्तियों के स्वास्थ्य और उत्पादनशील जीवन में मदद करने के लिए काम करती है । विकासशील देशों में यह लोगों के स्वास्थ्य में सुधार लाने और उन्हें भूख तथा अत्यधिक गरीबी से बाहर निकालने के अवसर प्रदान करने पर केंद्रित रहती है । अमेरिका में यह संस्था यह सुनिश्चित करना चाहती है कि सभी लोग खासकर न्यूनतम संसाधनों वाले व्यक्तियों को स्कूल तथा जीवन में सफलता पाने के लिए अवसरों की आवश्यकता होती है । वाशिंगटन के सिएटल में स्थित यह संस्था बिल एंड मेलिंडा गेट्स तथा वारेन बफेट के निर्देशन में कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जेफ रेकीज एवं सह-अध्यक्ष विलियम एच. गेट्स सीनियर के नेतृत्व में संचालित होती है । अधिक जानकारी के लिए देखें http://www.gatesfoundation.orgदेखें या बातचीत में शामिल होने के लिए या फेसबुक पर जाने के लिए (http://www.facebook.com/billmelindagatesfoundation?ref=ts अथवा ट्विटर पर(http://twitter.com/gatesfoundation),  और फ्लिकर पर (http://www.flickr.com/photos/48639212@N02/ ).देखें
सम्पादकों के लिए नोट
छोटे किसान ही जवाब की चुनौती है(http://gates.ly/smallfarmers)
– फाउंडेशन ने लोगों को प्रेरित करने के लिए चुनौती दी कि वो विकासशील देशों के किसानों की मदद करने के लिए दुनिया को समझा पायें कि, कैसे ज्यादा से ज्यादा पैदावार और ज्यादा विक्रय करके दुनिया में भूख और गरीबी को घटाने का समाधान निकाला जा सकता है ।
प्रस्तुतियों को उन प्रतिभागियों के लिए जो अपना गेम बना सकते हैं: इंफोग्राफिक, पोस्टर, अथवा विडियो: फोटो साझा कर सकते हैं, अथवा लिख या ट्विट कर सकते हैं, 31 मई, 2011 , तक स्वीकार्य किया जा रहा है ।
‘‘ओडेटास फार्म’’ की कहानी देखिए (
http://www.gatesfoundation.org/agriculturaldevelopment/Pages/purchase-for-progress.aspx
)
– बिल गेट्स का वो विडियो देखिए जिसमें वो रवांडा के एक किसान ओडेटा मुकानयिको, के बारे में बता रहें हैं, जिसने वर्ल्ड फूड प्रोग्रामस पर्चेस फॉर प्रोग्रेस इनीशिएटिव में हिस्सा लिया था ।
फोटोस – छवियां फाउंडेशन के फ्लिकर पेज पर उपलब्ध हैं  (http://www.flickr.com/photos/gatesfoundation/sets/72157626523695213).

स्रोत : बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन सम्पर्क : बिल एण्ड मेलिण्डा गेट्स फाउंडेशन 1-206-709-3400, मिडिया एट गेट्सफाउंडेशन डॉट ओआरजी पीआरन्यूजवायर : एशियानेट