आपका इलेक्ट्रोन 2030 में कहां से आएगा ?

स्रोत: Perimeter Institute for Theoretical Physics -44910
श्रेणी: General
 
 
 
09/06/2011 10:59:22:133AM
 
 
वाटरलू, ऑन. 5 जून, 2011 सीएनडब्लूएशियानेट
अनूठे वैश्विक उर्जा सम्मेलन का आनलाइन मुआयना करें
वर्ष 2030 में जब आप अपने टोस्टर, कार या स्मार्टफोन को प्लग में लगाएगे तो बिजली कहां से प्राप्त होगी ? या क्या तब थोडे से इलेक्ट्रोन्स उपलब्ध हो पाएंगे ? जापान के फुकुशिमा परमाणु हादसा और गर्मी के बढते ही उत्तरी गोलाध्र्द में बिजली की बढती मांग को देखते हुए दुनिया के अग्रणी उर्जा वैज्ञानिक, भविष्य के नेताओं और अनुभवी सलाहकारों का एक समूह एक अनूठा चिंतनसमूह प्रयोग करने के लिए बैठक करने वाले हैं ताकि भविष्य में वैश्विक स्तर पर बिजली की टिकाउ और सुरक्षित उपलब्धता का रास्ता निकाला जा सके
इसका उदघाटन कनाडा के गर्वनर जेनरल के संबोधन से पांच जून : 9 जून तक: को एक बजे अपरान्ह पर होगा
चार दिनों के निजी कार्यकारी सत्रों के दौरान दर्जन भर वैज्ञानिक विशेषज्ञों की समिति में वर्ष 2030 को ध्यान में रखते हुए बिजली के उत्पादन, वितरण और भंडारण के बारे में अपने विचारों और तकनीकी विशेषज्ञताओं के बारे में विचारविमर्श और बहस होगी
अनुभवी परामर्शदाताओं की देखरेख और अगली पीढी के नेताओं के एक फोरम की बैठक में उन विचारों के कार्यान्वयन के तौरतरीके को निर्धारित किया जाएगा
पूरी अध्र्द शताब्दी के आश्वासनों के बाद भी क्या फ्यूजन शक्ति से बनी बिजली की सुपुर्दगी सचमुच हो पाएगी? क्या हम परमाणु इंधन के पुर्नचक्रण और पुर्नउपयोग पर सुरक्षित ढंग से निर्भर रह सकेंगे? क्या भविष्य में उपलब्ध होने वाली बिजली में फोटोवाल्टाईक पैनलों से प्राप्त उर्जा शामिल होगी जो बिजली का उत्पादन करने के लिए जल का विखंडन कर हाइड्रोजन का निर्माण करेगें ? इक्यीनोक्स सम्मिट : इनर्जी 2030 के संचालक विलसन डा सिल्वा ने कहा कि ‘‘हमारा उदेश्य इस शताब्दी की बिजली संबंधी चुनौतियों का मुकाबला पहले वैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य में करने की है और फिर आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरणीय निहिताथरें से जुडे कारकों का सहयोग लेना है जिसमें आखिर तक राजनीति को अलग थलग रखा जा सके ।’’ दर्जन भर से अधिक सार्वजनिक कार्यक्रमों का जीवंत और मांगे जाने पर प्रसारण किया जाएगा कार्यकारी सत्रों के अनुसरण में तैयार विस्तृत विचारसत्रों, विषय आधारिक व्याख्यानों की श्रृंखला और समूचे विचारविमर्श का टीवीओ पर जीवंत प्रसारण करने ने माध्यम से इक्यीनोक्स सम्मिट का लक्ष्य बिजली के बारे में विचारविमर्श को समूचे विश्व के साधारण घरों में आरंभ कर देना है
स्टीव पैकिन द्वारा तैयार सम्मेलन की कार्यसूची के सभी कार्यक्रमों को जीवंत प्रसारित किया जाएगा और मांगे जाने पर भी उपलब्ध कराया जाएगा
इक्यीनोक्स सम्मिट वाटरलू वैश्विक विज्ञान पहलकदमी का आरंभिक आयोजन है और सैध्दांतिक भौतिकशास्त्र के विश्व के अग्रणी केन्द्र पेरिमीटर इंस्टीच्यूट में आयोजित होने जा रहा है डा सिल्वा ने कहा कि ‘‘भविष्यन्मुखी उर्जा सम्मेलन को आयोजित करने का यह उपयुक्त स्थल है
उन्होंने कहा कि ‘‘विज्ञान सबसे बडा इकलौता कारक है जिसने स्वास्थ्य, संपन्नता और हमारी 5यता की उन्नति को प्रभावित किया है यह परिवर्तकारी है और इसीतरह की ताकत की आवश्यकता हमें इन विशालकाय चुनौतियों का समाधान करने के लिए है ।’’ इस आयोजन को आनलाइन देखें : उसका ढंग यहां प्रस्तुत है – – दर्जनभर सार्वजनिक कार्यक्रमों के प्रसारण को निम्नलिखित वेबसाइट पर देखें http://wgsi.org/video
http://wgsi.org    पर जाएं और प्रमुख कार्यक्रमों की विस्तृत जानकारी और विचारों को प्रतिदिन प्राप्त करने के लिए हमारे पत्राचार के पतों की सूची में शामिल होने के लिए साइनअप करें
इक्वीनोक्ससम्मिट हैशटैग का उपयोग करें या इक्वीनोक्सइंनसाइड के सहारे रणनीति सत्रों के घटनाक्रमों का जायजा लें और तस्वीरों की लगातार प्रवाह को हमारे डब्लूजीएसआईसम्मिट फ्लिकर स्ट्रीम के माध्यम से प्राप्त करें।
डब्लूजीएसआई के बारे में :- सन 2009 में स्थापित गैरमुनाफाकारी संगठन वाटरलू वैश्विक विज्ञान पहलकदमी :डब्लूजीएसआई: पेरिमीटर इंस्टीच्यूट आफ थियोरेटिकल फिजिक्स और यूनिवर्सिटी आफ वाटरलू के बीच एक साझीदारी है
डब्लूजीएसआई का उदेश्य विभिन्न विषयों पर अतिकेन्द्रीत अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों को प्रस्तुत करना है जिससे विचारविमर्श को आगे बढाया जा सकें और भविष्य के लिए आवश्यक वैज्ञानिक और तकनीकी समाधानों के बारे में दीर्घव्यापी अवधारणाओं को उत्प्रेरित किया जा सके
आयोजन के भागीदारों के साथ इंटरव्यू करने या मीडिया पूछताछ के लिए इक्वीनोक्स सम्मेलन के समर्पित समाचारकक्ष के साथ संपर्क करें मीडिया कक्ष पांच जून से नौ जून तक खुला रहेगा
संपर्क :- इक्वीनोक्स सम्मिट
मीडिया समाचारकक्ष संपर्क :- 1-519-569-7600 एक्स. 7506 न्यूजरूम :एैट: डब्लूजीएसआई डाट ओरजी
स्रोत :- पेरिमीटर इंस्टीच्यूट फार थियोरेटिकल फिजिक्स