टायफायड विरोधी गठबंधन ने टायफायड टीका के बारे में विश्व स्वास्थ्य संगठन की पात्रता निर्धारण की प्रशंसा की ।

स्रोत: Sabin Vaccine Institute-45201
श्रेणी: Medical and Health Care
 
 
 
24/06/2011 11:35:12:017AM
 
वाशिंगटन, 23 जून, 2011 पीआर न्यूजवायरएशियानेट
विश्व स्वास्थ्य संगठन का पात्रता निर्धारण उन्हें टीका उपलब्ध कराने की दिशा मेंमहत्वपूर्ण कदम’ है जिन्हें उसकी सर्वाधिक आवश्यकता है
टायफायड टीकाओं की सार्वदेशिक उपलब्धता की दिशा में बडी पहल करते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन :डब्लूएचओ: ने टायफिम वीआई :आर: का पात्रता निर्धारण कर दिया है जो टायफायड वीआर पोलिसैचराइड टीका है उसका सानोफी के टीका विभाग सानोफी पास्टेयूर ने किया है
:
लोगो : http://photos.prnewswire.com/prnh/20110623/DC25029LOGO )
 यह पहला टायफायड टीका है जिसका डब्लूएचओ द्वारा पात्रतानिर्धारण कर दिया गया है इससे यूनिसेफ, संयुक्त राष्ट्र की अन्य एजेंसियों और पैन अमेरीकन स्वास्थ्य संगठनों को टीका खरीदने के लिए कोष एकत्र करने की सुविधा मिल सकी है
विश्व स्वास्थ्य संगठन का पात्रता निर्धारण जीएवीआई गठबंधन की सहायता प्राप्त करने की भी पूर्वशर्त है
टायफाएड ज्वर से विश्व स्तर पर प्रत्येक वर्ष कम से कम दो लाख मौतें होती हैं और अन्य डेढ लाख से तीन लाख तीस हजार से अधिक लोग बीमार पडते हैं टायफायड टीका का उपयोग संयुक्त राष्ट्र के सहस्राब्दी विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने में योगदान करेगा
आगा खान युनिर्वसिटी, कराची, पाकिस्तान के मातृत्व और बाल स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख डॉ. जुल्फिकार भुटटा ने कहा कि ‘‘विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा पात्रतानिर्धारित टायफायड टीकाओं का बडी जनसंख्या वाले देशों की उपयुक्त आबादी में उपयोग किया जाएगा जिसमें दक्षिण एशिया को प्राथमिकता दी जाएगी, जहां इस बीमारी का फैलाव पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों में अधिक होता है।’’ टायफायड ज्वर का प्रभाव गरीबी में गुजर बशर करने वाले बच्चों में सर्वाधिक होता है उन आबादियों में जिनके लिए सुरक्षित जल और बुनियादी स्वच्छता के बुनियादी अधिकारों को अभी सुनिश्चित नहीं किया जा सका है,उनमें इस टायफायड टीका के उपयोग से समानता और सामजिक न्याय में मौजूद असमानता को कम करने में सहायता मिल सकती है
नेपाल के स्वास्थ्य और जनसंख्या मंत्रालय के स्वास्थ्य सेवा विभाग के बाल स्वास्थ्य प्रभाग के निदेशक डॉ. शयाम राज उप्रेती ने कहा कि ‘‘टायफायड टीकाओं के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन का पात्रता निर्धारण नेपाल और समूचे एशिया के बच्चों के लिए इस टीका की उपलब्धता को गति प्रदान करेगा जहां टायफायड ज्वर का फैलाव सर्वाधिक है ’’ टायफायड टीकाओं को विश्व स्वास्थ्य संगठन के दक्षिण एशिया क्षेत्रीय कार्यालय :एसईएआरओ: टीका प्राथमिकताकरण कार्यशाला में प्राथमिकता के आधार परफौरन’ कार्यान्वित करने का फैसला किया गया है
टायफायड टीकाओं का अति जोखिमपूर्ण समूहों में उपयोग करने की सिफारिश विश्व स्वास्थ्य संगठन ने किया है टायफायड टीकाओं को जीएवीआई गठबंधन द्वारा भी प्राथमिकता दी गई है, हांलाकि अभी कोष प्रदान नहीं किया गया है
साबिन वैसिन इंस्टीच्यूट के अंतर्गत टायफायड विरोधी गठबंधन के सचिवालय के निदेशक क्रिस्टोफर नेल्सन, पीएचडी एमपीएच ने कहा कि ‘‘इन टीकाओं के माध्यम से टायफायड ज्वर से मृत्यु और बीमारी का निरोध कर सकने की उम्मीद बंधती है ।’’ ‘‘अब आपूर्तिकर्ताओं, अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों, कोषदाताओं और स्थानीय सरकारों को इसे सुनिश्चित करना चाहिए कि इन टीकाओं की उपलब्घता उन बच्चों के पास तक हो जिन्हें इनकी सर्वाधिक आवश्यकता है ।’’ टायफायड ज्वर के बारे में :- टायफायड ज्वर एक गंभीर बैक्टेरिया जनिक संक्रमण है जो इंटरिक पैथोगेन साल्मोनेला इंटेरिका सेरोवर टाइफी :एस.टाइफी: के कारण उत्पन्न होता है एस.टाएफी मानवीय कचरे से प्रदूषित जल या आहार के माध्यम से फैलता है।
हालांकि यह मोटेतौर पर एक उपचार योग्य बीमारी है, पर एस.टाइफी में महामारी बनने की सक्षमता जरूर है इसके लक्षण आमतौर पर संक्रमण के एक से तीन सप्ताह के भीतर दिखने लगती है और वह हल्का या गंभीर दोनों तरह का हो सकता है
उनमें उच्च ज्वर, बेचैनी, सिरदर्द, कब्ज या दस्त, सीने पर लाल रंग के चकत्ते और तिल्ली यकृत का बढ जाना शामिल है टायफायड के गंभीर मामलों का परिणाम ऑतों में छिद्रण और मृत्यु हो सकती है
टायफायड ज्वर की चिकित्सा एंटीबायोटिक्स से की जाती है हालांकि साधारण एंटीबायोटिक्स के प्रति प्रतिरोध के मामले भी काफी व्यापक हैं उपयुक्त एंटीबायोटिक के जरिए चिकित्सा नहीं होने पर टायफायड से मृत्यु की दर 30 प्रतिशत तक होती है
इसका व्यापक फैलाव और एंटीबायोटिक प्रतिरोधी टायफायड के बढते मामलों से टीकाकरण की आवश्यकता बढ गई है एक सवस्थ्य कैरियर गंभीर रोग से ग्रस्त हो सकता है स्वस्थ्य कैरियरों को खाद्यपदाथरें का स्पर्श नहीं करने देना चाहिए
अधिक जानकारी के लिए कृपया देखें :- http://www.who.int/topics/typhoid_fever/
विश्व स्वास्थ्य संगठन के पात्रता निर्धारित टीकाओं के बारे में :- 
http://www.who.int/immunization_standards/vaccine_quality/PQ_vaccine_list_en/en/index.html 
 
जीएवीआई गठबंधन के समाचारों और टीकाकरण सहायता के बारे में :-
http://www.gavialliance.org/support/index.php 
संयुक्त राष्ट्र सहस्राब्दी विकास लक्ष्यों के बारे में :-
http://www.un.org/millenniumgoals/

 टायफिम वीआइ :आर: के बारे में :- 
http://www.who.int/immunization_standards/vaccine_quality/pq_238_typhoid_20dose_sanofi_pasteur/en/index.html 
 
सानोफी पास्टेयूर के बारे में :- 
http://www.sanofipasteur.com/sanofi-pasteur2/front/indexp?siteCode=SP_CORP

टायफायड विरोधी गठबंधन के बारे में :-
टायफायड विरोधी गठबंधन वैज्ञानिकों और टीकाकरण विशेषज्ञों का एक वैश्विक फोरम है जो टायफायड टीकाकरण के उन्नयन के माध्यम से इस रोग से प्रभावित देशों में मृत्यु को रोकने और ताबाही को घटाने की दिशा में काम करती है
यह गठबंधन जिसका सचिवालय सबिन वैसिन इंस्टीच्यूट में स्थित है, वैश्विक, क्षेत्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर साझेदारियां कायम करता है ताकि सुरक्षित, कारगर और वहनयोग्य टायफायड टीकाओं की उपलब्धता सुनिश्चित किया जा सके और जोखिमग्रसत बच्चों को जीवनरक्षक सुविधा प्रदान कर सके
अधिक जानकारी के लिए कृपया देखें :- 
http://www.sabin.org/advocacy-education/coalition-against-typhoid 

साबिन वैसिन इस्टीच्यूट के बारे में :- साबिन वैसिन इंस्टीचयूट वैज्ञानिकों, शोधकर्ताओं और वकीलों का एक गैरमुनाफाखोर 501:सी::3: संगठन है जो टीकाकरण से निराकरण होने वाले और उपेक्षित उष्णकटीबंधीय बीमारियों से बेवजह मानवीय नुकसानों को घटाने के प्रति समर्पित है
साबिन सरकारों, अग्रणी सार्वजनिक और निजी संगठनों और अकादमिक संस्थानों के साथ मिलकर विश्व के कुछ सर्वाधिक व्यापक स्वास्थ्यगत चुनौतियों का समाधान प्रदान करता है
सन 1993 में अपनी स्थापना के समय से उसने पोलियो टीका की खूराक के विकासकर्ता डॉ. अल्बर्ट बी. साबिन के सम्मान में यह संस्थान टीकाओं से निरुध्द होने वाली और उपेक्षित उष्णकटीबंधीय बीमारियों का नियंत्रण करने, चिकित्सा करने और निर्मूलन के लिए नई टीकाओं के विकास , मौजूदा टीकाओं के उपयोग का प्रचार और वहनक्षम चिकित्सा सुविधाओं तक पहुंच को प्रोत्साहित करने में अगली कतार में है
अधिक जानकारियों के लिए कृपया देखें :-
 www.sabin.org.
स्रोत :- साबिन वैसिन इंस्टीच्यूट
संपर्क :- रिचार्ड हात्जफेल्ड साबिन वैसिन इंस्टीच्यूट 1-202-294-4637 रिचार्ड डाट हात्जफेल्ड :एैट: साबिन डाट ओआरजी