भारत रिन्यूवेबल एनर्जी ने भारत में बायोडीजल की खातिर जटरोफा हाइब्रिड की स्थापना के लिए एसजी बायोफ्यूल्स के साथ गठजोड़ किया

स्रोत: SG Biofuels Asianet 45772
श्रेणी: Business and Finance
 
 
 
11/08/2011 7:17:56:640PM
 
भारत रिन्यूवेबल एनर्जी ने भारत में बायोडीजल की खातिर जटरोफा हाइब्रिड की स्थापना के लिए एसजी बायोफ्यूल्स के साथ गठजोड़ किया
सान डिएगो, 9 अगस्त, 2011, पीआरन्यूजवायर- एशियानेट ।
बहुस्तरीय कार्यक्रम में हाइब्रिड का 35,000 हेक्टेयर शामिल किया गया है । भारत की दूसरी सबसे बड़ी पेट्रोलियम कंपनी और वैश्विक स्तर पर फार्चून 500 कंपनी बीपीसीएल की साझा उपक्रम वाली कंपनी भारत रिन्यूवेबल एनर्जी लिमिटेड : बीआरईएल : ने भारत में बायोडीजल के उत्पादन के लिए जटरोफा के उन्नत हाइब्रिड विकसित एवं स्थापित करने की खातिर एसजी बायोफ्यूल्स : एसजीबी : के साथ एक कार्यक्रम शुरू किया है ।
इस कार्यक्रम के पहले चरण में आक्रामक फसल विकास प्रयास को शामिल किया गया है ताकि देशभर में अनूठी विकसित स्थितियों के लिए स्वीकृत जटरोफा के विविधतापूर्ण उच्च प्रदर्शन वाले हाइब्रिड उत्पादित किए जा सकें । इसके अतिरिक्त चरणों में एसजीबी के जेमैक्स : टीएम: हाइब्रिड बीजों का इस्तेमाल करते हुए जटरोफा के 35,000 से अधिक हेक्टेयर का संभावित विकास करना शामिल है ।
भारत रिन्यूवेबल एनर्जी लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एमवी राधाकृष्णन ने कहा, ‘‘हाइब्रिड बीजों की बड़ी मात्रा उत्पादित करने की क्षमता वाले जटरोफा हाइब्रिड तत्व की आनुवांशिक विविधता के साथ एसजी बायोफ्यूल्स भारत में जटरोफा को बायोडीजल के प्राथमिक स्रोत के रूप में सफलतापूर्वक विकसित, मान्य और उन्नत बनाने के लिए एक आदर्श भागीदार है ।’’ एसजीबी अपने वैश्विक जेमैक्स :टीएम: फसल विकास केंद्रों के उन्नतीकरण से संचालित होगी जहां कंपनी एडवांस्ड ब्रीडिंग तथा बायोटेक्नोलाजी के संयोजन के जरिये जटरोफा की उन्नत हाइब्रिड किस्मों को अनुकूल बना रही है । इन केंद्रों में कंपनी के 12,000 जेनोटाइप्स से अधिक जर्मप्लाज्म लाइब्रेरी से हाइब्रिड पदार्थ जैसी विशेषता है । एसजीबी भारत के विस्तारित क्षेत्रों में अत्यधिक पैदावार तथा व्यावसायिक रूप से उचित हाइब्रिड किस्मों के चयन, परीक्षण तथा उन्नतीकरण के लिए बीआरईआर के साथ काम करेगी जिसमें 35,000 हेक्टेयर का शुरुआती विकास भी शामिल है ।
दिसंबर 2009 में भारत सरकार ने पेट्रोल तथा डीजल बाजार में 20 प्रतिशत बायोइथेनाल तथा बायोडीजल की मिलावट का लक्ष्य रखते हुए बायोफ्यूल्स पर अपनी राष्ट्रीय नीति विकसित की है । सरकारी नीति खाद्य सुरक्षा को प्रभावित किए बगैर अखाद्य तेल बीज के पौधों की खेती के लिए बेकार पड़ी जमीन के इस्तेमाल को बढ़ावा देती है । एशियाई विकास बैंक के मुताबिक, जटरोफा तथा अन्य अखाद्य तेलबीजों की मौजूदा खेती के लिए 3.2 करोड़ हेक्टेयर तक भूमि की जरूरत पड़ेगी ताकि देश के बायोडीजल लक्ष्यों को पूरा किया जा सके ।
एसजी बायोफ्यूल्स के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी किर्क हैनी ने कहा, ‘‘हम ऐसे उन्नत जटरोफा उद्योग के विकास के लिए बीआरईएल के साथ मिलकर काम करने की उम्मीद करते हैं जो बायोडीजल के लिए देश की जरूरी मांगों को पूरा करने में सक्षम हो सके । हमारी भागीदारी इस बात की अच्छी मिसाल है कि फसल विज्ञान और कृषि अर्थव्यवस्था से लेकर रिफाइनिंग एवं लाजिस्टिक तक के निचले चरण की समस्त मूल्य शृंखला में कैसे साझेदारी की जाती है और यह साझेदारी जटरोफा के सफल उन्नतीकरण में कैसे काम करती है ।
जटरोफा एक अखाद्य पौधा है जिसका मूल केंद्रीय अमेरिका है । इसके बीजों में अत्यधिक तैलीय अवयव होते हैं और इसे उच्च गुणवत्तापूर्ण उर्जा भंडार तैयार करने के लिए संशोधित किया जा सकता है । यह ऐसी बेकार पड़ी भूमि पर भी प्रभावी तरीके से उगाया जा सकता है जहां माना जाता है कि खाद्य फसलें नहीं उगाई जा सकती ।
एसजीबी की एकीकृत ब्रीडिंग और बायोटेक्नोलाजी पहल इसके जेमैक्स जटरोफा आप्टीमाइजेशन प्लेटफार्म :टीएम: के लिए एक संस्था का गठन करती है जो कंपनी की जटरोफा जीनोम, मोलेकुलर मारकर्स और एडवांस्ड बायोटेक एवं सिंथेटिक बायोलाजी उपकरणों की शृंखला जर्मप्लाज्म लाइब्रेरी से संचालित होती है और उर्जा कंपनियों, सरकारों तथा उत्पादकों को पूरी दुनिया की अनूठी विकसित होती परिस्थितियों के लिए जटरोफा के उन्नत उत्पादकों के चयन, परीक्षण और उन्नतीकरण की अनुमति प्रदान करती है । स्रोत : एसजी बायोफ्यूल्स संपर्क : सुभाष पटनायक : भारत : 1 993 700 9201, सुभाष एट एसजीबायोफ्यूल्स डाट काम या ब्रायन ब्राकोवस्की : अमेरिका : 1 619 246 3810, बीब्राकोवस्की एट एसजीबायोफ्यूल्स डाट काम, दोनों एसजी बायोफ्यूल्स के अधिकारी पीआरन्यूजवायर- एशियानेट : रंजन रंजन पीडब्ल्यूआर2 08091846 दि