प्राइज कैपिटल :टीएम: की रिपोर्ट ने ‘‘कार्बन कैप्चर और रिसाइक्लिंग’’ वाले उभरते उद्योगों की पहचान की, विभिन्न 136 स्वामित्व की सूची तैयार की

स्रोत: Prize Capital Asianet 46276
श्रेणी: Energy and Power
 
 
 
16/09/2011 3:21:12:430PM
 
प्राइज कैपिटल :टीएम: की रिपोर्ट ने ‘‘कार्बन कैप्चर और रिसाइक्लिंग’’ वाले उभरते उद्योगों की पहचान की, विभिन्न 136 स्वामित्व की सूची तैयार की
सान डिएगो, 13 सितंबर, 2011, पीआरन्यूजवायर- एशियानेट ।
नई तकनीकें कीमती वस्तुएं तथा पदार्थ बनाने के लिए फीडस्टाक का इस्तेमाल करते हुए उर्जा संयंत्रों से कार्बन उत्सर्जन का मुद्रीकरण करती हैं ।
प्राइज कैपिटल, एलएलसी ने आज ऐसे उभरते उद्योग के विवरण की समग्र कार्बन कैप्चर तथा रिसाइक्लिंग :सीसीआर: इंडस्ट्री ओवरव्यू रिपोर्ट जारी की जिनकी प्रौद्योगिकियां अन्य चीजों के अलावा ईंधन, निर्माण सामग्री, पशुचार, विशेष प्रकार के रसायन तथा प्लास्टिक जैसे कीमती उत्पाद बनाने के लिए फीडस्टाक के तौर पर कार्बन डाइआक्साइड :सीओ2: का इस्तेमाल कर रही हैं ।
(Logo: http://photos.prnewswire.com/prnh/20110913/LA66126LOGO )
इस रिपोर्ट में ऐसे उद्योगों पर प्रारंभिक दृष्टिपात किया गया है और इसमें इनोवेटर्स को परखा गया है । इसमें सीसीआर के औचित्य, मौजूदा सीसीआर पहल, इस तरह की पहल को आकार देने वाली शक्तियों की जांच और इस नए उद्योग के गठन का नेतृत्व करने वाले नवोन्मेषकों का संक्षिप्त ब्योरा देने के लिए इसके अधिकतम तथ्यों पर फोकस किया गया है जिनमें उनके विकास के संबंधित चरणों को शामिल किया गया ताकि वे व्यावसायीकरण की ओर कदम बढ़ा सकें ।
प्राइज कैपिटल में स्वच्छ प्रौद्योगिकी के निदेशक और इस रिपोर्ट के लेखक मैट पीक ने कहा, ‘‘कार्बन में कमी लाने के लिए जहां कार्बन कैप्चर और सिक्वेस्ट्रेशन :सीसीएस : सर्वाधिक बार चर्चा का विषय बना हुआ है, इसे देखते हुए हमने सीसीआर में अन्य संभावित विकल्प और पूरक खोज लिए हैं । उचित उत्प्रेरक के जरिये यह उदीयमान उद्योग न सिर्फ कार्बन उत्सर्जन कम करने के लिए प्रेरक बन सकता है बल्कि आपरेटरों की निचली पंक्तियों में भी वृद्धि कर सकता है ।’’ इस रिपोर्ट की रूपरेखा खींचने के लिए औद्योगिक प्रौद्योगिकियों को तीन श्रेणियों में बांटा गया है : जैविक, रासायनिक एवं उत्प्रेरक तथा खनिजीकरण । इस रिपोर्ट में सीसीआर के विभिन्न कार्यक्रमों पर काम कर रहे 136 विभिन्न उद्योगों की पहचान, प्रोफाइल और इनकी संपर्क सूचना की जानकारी दी गई है : 37 जैविक, 63 रासायनिक एवं उत्प्रेरक, 23 खनिजीकरण, एक मिश्रित कार्यक्रम और 12 गैर-श्रेणीबद्ध कंपनियां ।
136 सीसीआर कंपनियों के अलावा यह रिपोर्ट इस सावधानी की ओर ध्यान दिलाती है कि जैविक श्रेणी की कंपनियों ने हाल के वषरें में न सिर्फ 37 जैविक कंपनियों की प्रोफाइलिंग प्राप्त की है, जो या तो आवेदन करने जा रही हैं या उर्जा संयंत्र में चिमनी गैस के इस्तेमाल के लिए अपनी प्रौद्योगिकियों का आवेदन किया है, बल्कि इस रिपोर्ट में अतिरिक्त 260 जैविक कंपनियों, विश्वविद्यालयों और किसी परिशिष्ट में प्रयोगशालाओं के नाम, विवरण और संपर्क सूचना भी प्रदान की गई है जिनमें चिमनी गैस इस्तेमाल करने की क्षमता है लेकिन इस समय स्पष्ट रूप से ऐसा करने के लिए नहीं जानी गई हैं ।
उपभोक्ताओं के स्वामित्व वाला और थोक स्तर पर लाभ पाए बगैर उर्जा आपूर्तिकर्ता संगठन ट्राई-स्टेट जेनरेशन एंड ट्रांसमिशन एसोसिएशन चार पश्चिमी राष्ट्रों में 44 इलेक्ट्रिक सहभागिता पेश कर रही है और सीसीआर प्रौद्योगिकी के अवसरों की शृंखला पहचानने में मदद के लिए इस रिपोर्ट को इसने वित्तीय सहायता प्रदान की है ताकि कम खर्च से कार्बन उत्सर्जन प्रबंधित करने के लिए उर्जा आपूर्तिकर्ता की मदद की जा सके ।
ट्राई-स्टेट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी केन एंडरसन ने कहा, ‘‘सीसीआर दायरे में नवोन्मेष हमारे उद्योग के लिए क्रांतिकारी साबित होगा । कार्बन दायित्वों को संपत्तियों में परिवर्तित करना इस सोच की दिशा में एक महत्वपूर्ण बदलाव है कि इलेक्ट्रिक पावर को किफायती तथा विश्वसनीय बनाए रखने के लिए लागत प्रभावी समाधान सुनिश्चित करने में मदद मिल सकती है ।’’ कुल मिलाकर, सीसीआर कंपनियां को गैर-वित्तीय परिकल्पना से लेकर 5 करोड़ डालर की वित्तीय सहायता हासिल करने वाली विभिन्न आकार की कंपनियों में शामिल किया गया है । ये सभी कंपनियां पूरी दुनिया के विश्वविद्यालयों और प्रयोगशालाओं के अलावा निजी कंपनियों के तहत विकसित की गई हैं । इन कंपनियों ने कुल तकरीबन एक अरब डालर की सरकारी और निजी वित्तीय सहायता हासिल की है । कुछ कंपनियां कैप्चर से पुन: इस्तेमाल के पूर्ण दायरे के समाधानों की पेशकश कर रही हैं जबकि अन्य कंपनियां सिर्फ पुन: इस्तेमाल पर फोकस करती हैं और अपनी क्षमताएं साबित करने के लिए कैप्चर कार्बन के व्यवहार्य समाधानों की जरूरत पर केंद्रित हैं ।
रिपोर्ट के खाके के मुताबिक, सीसीआर प्रौद्योगिकियों के व्यावसायीकरण और स्थापना से जुड़ी चुनौतियों में शामिल हैं : मौसम की विभिन्न परिस्थितियों के तहत एक वर्ष के चक्र में कार्बन को रिसाइकिल करने की क्षमता होना, थर्मोडायनामिक और थर्मोकेमिकल लाजिस्टिक्स एवं कार्यकुशलता, स्तर मापनीयता, आवश्यक संसाधनों तक पहुंच और अन्य चुनौतियां ।
प्रौद्योगिकी चुनौतियों की वर्तमान योजना के साथ साथ प्रौद्योगिकियों और निर्माताओं के उभरते दायरे के जरिये यह रिपोर्ट बताती है कि खुद सीसीआर उद्योग सहित निवेशक और अन्य इच्छुक पक्ष उन माडलों से लाभ उठाएंगे जो वित्तीय विविधता के साथ साथ नवोन्मेष की विविधता को बढ़ावा देते हैं न कि एकल प्रौद्योगिकियों और उत्पादकों पर ‘‘दांव’’ खेलते हैं ।
रिपोर्ट का निष्कर्ष है कि हाल के दिनों में यह नया उद्योग बदलाव का एक प्रतिमान पेश करता है जो सीसीएस से जुड़े जटिल मुद्दों को हल करने की जरूरत को दूर कर सकता है और कार्बन कम करने की नवीनतम कार्यवाही को बढ़ावा देता है । कार्बन उत्सर्जन के लिए मजबूर विश्व के उभरने की स्थिति को देखते हुए ऐसी कार्यवाही आवश्यक है ।
यह रिपोर्ट प्राइज कैपिटल की वेबसाइट के जरिये 10,000 डालर में उपलब्ध है : http://www.prizecapital.net
प्राइज कैपिटल, एलएलसी के बारे में
उद्यमी और पर्यावरणविद ली स्टेन द्वारा स्थापित प्राइज कैपिटल, एलएलसी वैश्विक स्तर पर पर्यावरण के अनुकूल कार्य शुरू करने वाली कंपनियों को पूंजी प्रदान करती है जबकि निवेशकों के लिए जोखिम में कमी लाती है । इसकी निजी पद्धति जोखिम को विविधता परखती है और बाजार तक पहुंच को विस्तारित करती है जिससे प्राइज कैपिटल शुरुआती चरण वाली उन कंपनियों के नवोन्मेषकों को पूंजी प्रदान करने में सक्षम हो पाती है जिन्होंने वर्तमान वित्तीय बाजारों में सेवाएं नहीं दी हैं । प्राइज कैपिटल का समानांतर निवेश कोष एक विशेष वैकल्पिक इक्विटी रणनीति के जरिये जोखिम को कम करता है और पुरस्कार प्रणाली के जरिये अतिरिक्त लाभ की स्थिति बनाता है । अतिरिक्त जानकारी के लिए देखें http://www.prizecapital.net
संपर्क- प्राइज कैपिटल, एलएलसी मैट पीक, क्लिन टेक्नोलाजी के निदेशक मोबाइल : 1 :213: 327 8935
ईमेल : मैट एट प्राइजकैपिटल डाट नेट
 स्रोत : प्राइज कैपिटल, एलएलसी
पीआरन्यूजवायर- एशियानेट : रंजन रंजन पीडब्ल्यूआर1 09160722 दि