एफआई इंडिया खाद्य उद्योग के लिए नए आयाम तय करेगी

स्रोत: Fi India Asianet 46571
श्रेणी: Food and Beverage
 
 
 
30/09/2011 4:34:30:963PM
 
एफआई इंडिया खाद्य उद्योग के लिए नए आयाम तय करेगी
 मुंबई, 29 सितंबर, पीआरन्यूजवायर- एशियानेट ।
खाद्य प्रसंस्करण उद्योग को भारत के सबसे बड़े उद्योगों में शुमार किया जाता है- उत्पादन, खपत, निर्यात और अनुमानित वृद्धि के संदर्भ में पांचवां स्थान रखता है । भारतीय खाद्य उद्योग वर्ष 2010-11 में अनुमानित 200 अरब अमेरिकी डालर तक पहुंच गया है और वर्ष 2015 तक इसके 300 अरब अमेरिकी डालर तक पहुंच जाने का अनुमान है । इस सेक्टर ने अप्रैल 2011 तक 1,25.379 करोड़ अमेरिकी डालर के प्रत्यक्ष विदेशी निवेश : एफडीआई : को आकषिर्त किया है ।
भारत में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग को अक्सर एक उपकरण आधारित उद्योग के रूप में लिया जाता है । इस नजरिये को बदलने की जरूरत है क्योंकि उपकरण डिजाइन और उत्पादन वास्तविकता के बीच तालमेल कायम करने की जरूरत है । लिहाजा यह जरूरी है कि इस उद्योग में मानव संसाधनों का प्रशिक्षण सुनिश्चित किया जाए । सभी तैयार उत्पादों में स्वास्थ्य, लेबल, पैकेजिंग और अन्य नियमों का पालन सुनिश्चित करने के लिए इस उद्योग की संपूर्ण वितरण-आपूर्ति शृंखला में बदलाव लाना जरूरी है ।
यूबीएम इंडिया के प्रबंध निदेशक संजीव खेड़ा ने कहा, ‘‘भारतीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग को जागरूकता, जानकारी स्तर और निरंतर निगरानी के उच्च स्तर की जरूरत है । इन तथ्यों की कमी के कारण कुछ नए उत्पाद दिन की रोशनी में भी नहीं दिखाई देते हैं । इसलिए यह जरूरी है कि बाजार में कारगर तरीके से चमकने और खपत बढ़ाना सुनिश्चित करने के लिए छोटे-छोटे अनिवार्य नियमों का इस उद्योग में पालन किया जाए ।’’ भारत जैसे देश में हमें नए उत्पादों के क्षेत्र में नवोन्मेषण विज्ञान पर जोर देना चाहिए या बेहतर उत्पाद के विकास पर जोर देना चाहिए । सरकार ने प्राथमिकता के तौर पर खाद्य सुरक्षा उपायों के महत्व और क्रियान्वयन की दिशा में 12वीं पंचवर्षीय योजना के तहत एक बड़े क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित करने का प्रस्ताव तैयार किया है और खाद्य प्रसंस्करण कारोबार में बड़ी लंबी छलांग लगाने में सफलता पाई है । इसमें एसएमई उद्योगों द्वारा स्वीकार्यता, किफायती, पद्धतियों और सुरक्षित खाद्य उत्पादों को शामिल किया गया है जिन्हें बड़े उद्योगों में लागू किया गया है ।
यूबीएम इंडिया 3 और 4 अक्तूबर 2011 को एफआई इंडिया 2011 का आयोजन करेगी । इसका लक्ष्य समस्त उद्योग को ऐसे तकरीबन 120 एक्जीबिटरों और 4500 से अधिक विजिटरों की प्रभावकारी भागीदारी के जरिये एक सुविधाजनक स्थान पर एकजुट करना है जो इस उद्योग के नीति निर्धारक हैं । एफआई इंडिया का लक्ष्य बदलते बाजार में प्रदर्शन जारी रखना है क्योंकि न सिर्फ उत्पादकों और प्रोसेसरों के फायदे के लिए ही नहीं बल्कि उपभोक्ताओं के लिए भी इसकी बड़ी नवोन्मेषण क्षमता को प्रसारित करना जरूरी हो गया है । यूबीएम इंडिया के बारे में : यूबीएम इंडिया निम्नलिखित सेक्टरों को समेटते हुए प्रदर्शनियों का आयोजन करती है जो विजिटरों के उपयुक्त मिश्रण की आपूर्ति करेगा : उर्जा, निर्माण एवं अधोसंरचना, सुरक्षा, चिकित्सा प्रौद्योगिकी एवं फार्मा, आईटी एवं खाद्य उद्योग । अधिक जानकारी के लिए देखें : http://www.ubmindia.in
संपर्क : म्युचूअल पीआर गोपाल गुप्ता 9892919375 गोपाल एट म्युचूअलपीआर डाट काम
स्रोत : एफआई इंडिया
पीआरन्यूजवायर- एशियानेट : रंजन रंजन पीडब्ल्यूआर1 09301136 दि