प्राइवेट सेक्टर टास्क फोर्स ने नियामक समरूपता को बढ़ावा देने के लिए जी-20 का आह्वान किया

स्रोत: PSTF Asianet 46650
श्रेणी: Business and Finance
 
 
 
10/10/2011 3:09:29:933PM
 
पीडब्ल्यूआर एक पीआर नंबर 46650 पीएसटीएफ एक ओटावा
प्राइवेट सेक्टर टास्क फोर्स ने नियामक समरूपता को बढ़ावा देने के लिए जी-20 का आह्वान किया
ओटावा, ओंटारियो, कनाडा, 6 अक्तूबर, 2011, सीएनडब्ल्यू- एशियानेट ।
प्राइवेट सेक्टर टास्क फोर्स आफ रेगुलेटेड प्रोफेशंस एंड इंडस्ट्रीज :पीएसटीएफ: ने जी-20 के प्रतिनिधियों के समक्ष अपनी अंतिम रिपोर्ट जारी की है । नियामक समरूपता की खामियों का विश्लेषण करने और वित्तीय सेक्टर में संचालन करने वाले कई पेशेवरों तथा उद्योगों में इस तरह की खामियों को दूर करने की सिफारिशें करने के लिए प्रेसिडेंसी आफ जी-20 के अनुरोध पर पीएसटीएफ की स्थापना मई 2011 में की गई थी ।
इंटरनेशनल एक्चुअरियल एसोसिएशन :आईएए: के अलावा इस टास्क फोर्स के सदस्यों में शामिल हैं : इंटरनेशनल फेडरेशन आफ अकाउंट्स :आईएफएसी, जो टास्क फोर्स को लाजिस्टिकल एवं प्रशासनिक सहयोग भी प्रदान करता है:, सीएफए इंस्टीट्यूट :सीएफएआई:, आईएनएसओएल इंटरनेशनल, इंस्टीट्यूट आफ इंटरनेशनल फाइनेंस : आईआईएफ:, इंटरनेशनल अकाउंटिंग स्टैंडर्डस बोर्ड :आईएएसबी:, इंटरनेशनल कारपोरेट गवर्नेंस नेटवर्क :आईसीजीएन:, इंटरनेशनल इंश्योरेंस सोसायटी :आईआईएस: तथा इंटरनेशनल वैल्यूएशन स्टैंडर्डस काउंसिल :आईवीएससी: ।
आईएए के अध्यक्ष सेसिल बायकर्क ने कहा, ‘‘हम उम्मीद करते हैं कि जी-20 डिप्यूटीज ऐसे व्यावहारिक चरण निर्धारित करने के लिए इस रिपोर्ट को निष्पक्ष पाएंगे जिसके तहत जी-20 वित्तीय सेक्टर में नियामक समरूपता को बढ़ावा देने के लिए उचित कदम उठा सके ।’’ पीएसटीएफ रिपोर्ट की सिफारिशें जी-20 को अपनी गति बनाए रखने तथा वैश्विक नियामक सुधार और समरूपता की महत्वाकांक्षा के लिए आवश्यक हैं तथा यह ऐसे असंगत राष्ट्रीय नियामक सुधारों को रोकने के लिए भी जरूरी जो अंतरराष्ट्रीय मानदंडों के अनुरूप नहीं हैं । पीएसटीएफ ने वैश्विक स्तर पर स्वीकार्य उच्च गुणवत्ता वाले अंतरराष्ट्रीय मानकों को प्रोत्साहित करने और उनके विकास, पालन, क्रियान्वयन और उचित व्याख्या के समर्थन के लिए जी-20 से ये सिफारिशें की है ताकि प्रत्येक वित्तीय रिपोर्टिंग, आडिटिंग, मूल्यांकन तथा बीमांकिक सेवाएं सर्वाधिक संभावित तरीके से समरूप की जा सके । इसके अलावा इस रिपोर्ट में निरंतर सहभागिता एवं नियामकों तथा पेशेवरों और औद्योगिक समूहों के बीच संवर्धित परामर्श के साथ-साथ खुले संवाद तथा पारदर्शी प्रक्रियाएं अपनाने की जरूरत पर जोर दिया गया है ताकि प्रभावी नियामक सुधारों का विकास और क्रियान्वयन किया जा सके ।
आईएए के पूर्व अध्यक्ष पॉल थोर्नटन ने कहा, ‘‘आईएए विशेष रूप से वित्तीय रिपोर्टिंग, आडिटिंग, मूल्य निर्धारण और बीमांकिक मानकों की समरूपता को बढ़ावा देने के लिए इन सिफारिशों का समर्थन करती है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय बीमा समूहों के पर्यवेक्षण के लिए आईएआईएस इंश्योरेंस के प्रमुख सिद्धांतों तथा सामान्य फ्रेमवर्क के क्रियान्वयन के लिए प्रोत्साहन का भी समर्थन करती है ।’’ इंटरनेशनल एक्चुअरियल एसोसिएशन :आईएए: पेशेवर बीमांकिक संगठनों की वैश्विक संस्था है जिसके साथ व्यक्तिगत मुनीमों की कई विशेष हितकारी शाखाएं जुड़ी हुई हैं । आईएए का अस्तित्व वैश्विक स्तर के उन पेशेवरों के विकास को प्रोत्साहित करने के लिए है जिनकी पहचान तकनीकी रूप से प्रतिस्पर्धी और पेशेवर रूप से विश्वसनीय होने के तौर पर की गई है और जिससे सुनिश्चित होगा कि जनहित का ख्याल रखा गया है ।
 स्रोत : कैनेडियन इंस्टीट्यूट आफ एक्चुरीज
संपर्क : सुश्री निकोल सेगुइन आईएए एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर 1 613 236 0886 एक्स. 123 ई-मेल : एक्जीक्यूटिव डाट डायरेक्टर एट एक्चुअरीज डाट ओआरजी सीएनडब्ल्यू- एशियानेट : रंजन रंजन पीडब्ल्यूआर2 10061058 दि